scorecardresearch

पंजाब में बोले राजनाथ सिंह- वोट नहीं देना हो तो मत दीजिए, लेकिन जूते तो मत फेंकिए

केंद्र सरकार के काम की तारीफ में उन्‍होंने कहा कि ढार्इ साल के कार्यकाल में भ्रष्‍टाचार का एक भी मामला नहीं है।

rajnath singh, punjab elections 2017, rajnath singh punjab rally, rajnath singh election rally, BJP, akali dal, shoe throw on badal, punjab BJP
राजनाथ ने पंजाब में ड्रग्‍स की समस्‍या के लिए पाकिस्‍तान को जिम्‍मेदार ठहराया।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पंजाब में एक रैली के दौरान कहा कि वोट नहीं देना तो मत दीजिए लेकिन जूते तो मत फेंकिए। पंजाब के अबोहर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए गृहमंत्री ने कहा, ‘आपको वोट ना देना हो तो मत दीजिए, लेकिन क्‍या आप उनपे लाठी चलाएंगे, जूते फेंकेंगे?” उन्‍होंने यह बयान पंजाब के मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बादल पर जूता और उपमुख्‍यमंत्री सुखबीर बादल पर पथराव की घटनाओं के संबंध में दिया। राजनाथ ने पंजाब में ड्रग्‍स की समस्‍या के लिए पाकिस्‍तान को जिम्‍मेदार ठहराया। उन्‍होंने पाक को चेतावनी देते हुए कहा, ”पाक यहां पे कोशिश करता है ड्रग भेजने की। मैं होम मिनिस्‍टर होने के तौर पे यकीन दिलाता हूं कि जो इसे बढ़ावा देगा उसकी मैं खाट खड़ी कर दूंगा।”

सर्जिकल स्‍ट्राइक की घटना की याद दिलाते हुए उन्‍होंने कहा, ”हम केवल इस पार नहीं लड़ सकते। जरुरत पड़ेगी तो उस पार भी लड़ सकते हैं। करके दिखा दिया हमने।” केंद्र सरकार के काम की तारीफ में उन्‍होंने कहा कि ढार्इ साल के कार्यकाल में भ्रष्‍टाचार का एक भी मामला नहीं है। पंजाब में भाजपा और अकाली दल मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। दोनों दलों की सरकार 10 साल से यहां पर सत्‍ता में है। इस बार कांग्रेस और आम आदमी पार्टी से उन्‍हें कड़ी टक्‍कर मिल रही है। पंजाब में भाजपा 23 सीटों पर चुनाव लड़ती है। पंजाब सरकार पर ड्रग्‍स स्‍मगलर्स को शह देने का आरोप लगा है। इस बार के चुनावों में ड्रग्‍स का मुद्दा सबसे ऊपर है। भाजपा सर्जिकल स्‍ट्राइक के मुद्दे के साथ मैदान में है। पंजाब की सीमा पाकिस्‍तान से लगती है, इसके चलते भाजपा इस मुद्दे को भुनाना चाहती है।

गौरतलब है कि 18 सितंबर को जम्‍मू-कश्‍मीर के उरी स्थित आर्मी कैंप पर आतंकी हमले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर में आतंकी संगठनों के लॉन्‍च पैड्स पर सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम दिया था। डायरेक्‍टर जनरल आफ मिलिट्री ऑपरेशं(डीजीएमओ) ने बताया था कि इस हमले में आतंकियों को गंभीर नुकसान हुआ था। मगर सर्जिकल स्‍ट्राइक्‍स के बाद से सीमा पार से पाकिस्‍तानी फौजें लगातार संघर्षविराम का उल्‍लंघन करती रही हैं। तब से 40 से ज्‍यादा बार पाकिस्‍तान की तरफ से फायरिंग की गई है, जिसमें सात भारतीय जवान शहीद हुए।

 

पढें Elections 2022 (Elections News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट