जम्मू-कश्मीर पहुंचे अमित शाह, ड्रोन और शार्पशूटर तैनात, डल झील पर भी कड़ा पहरा

गृह मंत्री अमित शाह तीन दिन के कश्मीर दौरे पर हैं। सुरक्षा को देखते हुए चाक चौबंद व्यवस्था की गई है।

जम्मू-कश्मीर पहुंचे अमित शाह। फोटो – एएनआई

गृह मंत्री अमित शाह तीन दिन के दौरे पर जम्मू-कश्मीर पहुंचे हैं। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद यह उनका पहला कश्मीर दौरा है। इन दिनों जारी हिंसा को देखते हुए उनकी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। उनके पहुंचने से पहले ही एक स्पेशल टीम जम्मू-कश्मीर पहुंच गई थी जिसने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। बताया जा रहा है कि गृह मंत्री की सुरक्षा के लिए शार्प शूटर, स्निपर और ड्रोन तक तैनात किए गए हैं।

श्रीनगर में इन दिनों जांच अभियान तेज है। इसके अलावा पुलवामा के लगभग 15 इलाकों में मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया है। डल झील के आसपास के इलाकों में भी 23 से 25 अक्टूबर तक आम लोगों की एंट्री बंद कर दी गई है। हालांकि इसे रूटीन प्रक्रिया बताई गई है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस का कहना है कि हाल ही में हुए नागरिकों की हत्या के बाद यह सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। सुरक्षा एजेंसियां पहले से अलर्ट पर हैं। अब पूरे श्रीनगर को छावनी में बदल दिया गया है। यहां अर्धसैनिक बलों की 20-25 अतिरिक्त टुकड़ियां तैनात की गई हैं। डल झील में भी जवान तैनात हैं। झील में पट्रोलिंग बोट से सीआरपीएफ के जवान गश्त कर रहे हैं।

इंटरनेट बंद करने को लेकर भड़कीं महबूबा मुफ्ती
शाह के दौरे से पहले कई इलाकों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है। इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भड़क गईं। पीडीपी नेता ने इसे सामूहिक सजा बताया। पुलिस का कहना है कि यह आतंक के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान का हिस्सा है।

ऐक्शन में एनआईए
गृह मंत्री के दौरे से पहले एनआईए ने बड़ी कार्रवाई की। 6 जिलों में छापे मारकर आतंकी साजिश के आरोपी कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा कश्मीर घाटी की जेलों में बंद आतंकियों को दूसरे राज्यों की जेलों में शिफ्ट किया जा रहा है।

अमित शाह ने जम्मू कश्मीर पुलिस के शहीद अधिकारी परवेज अहमद के परिजन से शनिवार को मुलाकात की। शहर के नौगाम इलाके में इस साल जून में आतंकवादियों ने अहमद की हत्या कर दी थी। जम्मू कश्मीर के तीन दिवसीय दौरे पर आए शाह हवाई अड्डे से सीधा नौगाम गए। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, “गृह मंत्री जम्मू कश्मीर पुलिस के निरीक्षक परवेज के घर गए जिनकी आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी।” अधिकारियों ने कहा कि शाह ने शहीद पुलिसकर्मी के परिजन को सांत्वना दी। शहीद पुलिस अधिकारी की विधवा फातिमा अख्तर को शाह ने अनुकंपा के आधार पर सरकारी नौकरी के दस्तावेज सौंपे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पश्चिम बंगाल में सियासी बदलाव के संकेतRajasthan BJP Government
अपडेट