ताज़ा खबर
 

Holi 2018: प्रवीण तोगड़िया ने PM नरेंद्र मोदी को किया मेसेज- चलो एक बार फिर से मिल बैठकर बात करें

विहिप नेता ने इससे पहले एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि पीएम मोदी को आपसी मनभेदों का अंत करते हुए देश और हिंदुस्व के हित में उनके साथ आगे आना चाहिए। एक फरवरी को उन्होंने इस संबंध में एक ट्वीट भी किया।

डॉ. प्रवीण तोगड़िया। (फोटोः फेसबुक)

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया ने कहा है रंगों के पावन त्यौहार होली पर बधाई दी। गुरुवार को उन्होंने ने इसी के साथ ही पीएम से कहा कि एक बार फिर से मिल बैठकर बात करें? तोगड़िया की ओर से त्योहार के बहाने आई इस प्रतिक्रिया को एक सकारात्मक पहल के रूप में देखा जा रहा है। कहा जा रहा है कि वह पीएम के साथ अपने रिश्तों को सुधारने के लिए ऐसा कर रहे हैं। विहिप नेता ने इससे पहले एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि पीएम मोदी को आपसी मनभेदों का अंत करते हुए देश और हिंदुस्व के हित में उनके साथ आगे आना चाहिए। एक फरवरी को उन्होंने इस संबंध में एक ट्वीट भी किया। लिखा, “शुभ होली, भाई! होली पर फिर से एक बार हैप्पी होली! चलो, एक बार फिर से मिल-बैठकर बातें करें? होली है!”

तोगड़िया ने इससे पहले एक अंग्रेजी अखबार से भी इस बारे में बातचीत की थी। उन्होंने कहा था, “नरेंद्र भाई चलिए साथ आते हैं और देश के लिए काम करते हैं। देश के सामने बेरोजगारी, किसानों की बदहाल स्थिति और उद्योगों की बहाली की बड़ी चुनौतियां हैं। देश से किए वादों को पूरा करने के लिए हमारा साथ आना जरूरी है।”

विहिप नेता आगे बोले कि वह पीएम के पुराने दोस्त रहे हैं। यही वजह कहै कि वह मोदी को सलाह-मशविरा देना चाहते हैं, ताकि पीएम उस सीढ़ी को न तोड़े जिसकी मदद से वह शिखर पर पहुंचे हैं। तोगड़िया ने इसी के साथ पीएम मोदी को अपना मोटा भाई (गुजरात में बड़ा भाई कहा जाता है) बताया था और कहा था कि वह उम्मीद करते हैं कि मोटा भाई सत्ता के आकाश से जमीन पर देखते हुए हमारे सरीखे पुराने दोस्तों से बातचीत करेंगे। वह विदेशी नेताओं से बात करते हैं, मगर उन्हें अब हमारे जैसे नेताओं के लिए भी समय निकालना चाहिए।

Next Stories
1 होली पर सांसदों के खाते में चली गई दो महीने की सैलरी, अगले दिन ही आधा खाली हुआ खाता
2 होली है: जानिए, किस रंग में होते हैं कौन से खतरनाक केमिकल
3 सरकार ने जारी किया नोट- चीन से संबंध बेहद नाजुक दौर में है, दलाई लामा के कार्यक्रमों में जाने से बचें
ये  पढ़ा क्या?
X