ताज़ा खबर
 

मर्सिडीज हिट एंड रन: सामने आया हादसे का वीडियो

सिविल लाइंस हिट एंड रन मामले के सीसीटीवी फुटेज में सामने आया है कि कथित रूप से एक नाबालिग की ओर से चलाई जा रही तेज रफ्तार मर्सिडीज कार की टक्कर के बाद 33 साल का पीड़ित कम से कम 15 मीटर ऊपर हवा में उछल गया था।

Author नई दिल्ली | April 8, 2016 2:38 AM

सिविल लाइंस हिट एंड रन मामले के सीसीटीवी फुटेज में सामने आया है कि कथित रूप से एक नाबालिग की ओर से चलाई जा रही तेज रफ्तार मर्सिडीज कार की टक्कर के बाद 33 साल का पीड़ित कम से कम 15 मीटर ऊपर हवा में उछल गया था। सोमवार के हादसे की करीब एक मिनट 20 सेकंड की क्लिप पीड़ित सिद्धार्थ शर्मा के रिश्तेदारों ने मीडिया से साझा की। इसमें दिखता है कि शर्मा एक चौराहे के पास सड़क पार करने का प्रयास कर रहे है और एक कार को आते हुए देख कर वे फुटपाथ की तरफ भागते हैं।

इसके तुरंत बाद, शर्मा को तेज रफ्तार से चलाई जा रही कार टक्कर मारती है और वे कम से कम 15 मीटर तक हवा में उछल जाते हैं और फिर वीडियो के फ्रेम से बाहर हो जाते हैं। बाद में आस-पास के लोगों ने युवाओं के एक समूह को कार से बाहर निकलते हुए वाहन वहीं छोड़कर फरार होते हुए देखा। पुलिस ने पीड़ित को एक अस्पताल में पहुंचाया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया था। बाद में पता चला था कि कार सिविल लाइंस अपार्टमेंट में रहने वाले एक कारोबारी की है।

इस दौरान कारोबारी का ड्राइवर पुलिस के पास पहुंचा और उसने कथित रूप से यह दावा किया कि हादसे के वक्त कार वह चला रहा था, लेकिन उसे जैसे ही पता चला कि हादसे में घायल शर्मा की मौत हो चुकी है, उसने अपना बयान बदल दिया। इस मामले में कार के चालक के रूप में कारोबारी के 17 साल के बेटे की पहचान हुई थी। लड़के को मंगलवार को पकड़ा गया था और बाद में कानूनी प्रावधानों के अनुसार उसे जमानत दे दी गई थी। पुलिस ने वाहन अपने नाबालिग बेटे को सौंपने के लिए मोटर वाहन अधिनियम के तहत कारोबारी का चालान काटा। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि आरोप पत्र में कारोबारी के ड्राइवर का नाम भी शामिल किया जाएगा, जिसने जांचकर्ताओं को गुमराह करने की कोशिश की।

बहरहाल उत्तरी दिल्ली के सिविल लाइंस इलाके में हुई इस दुर्घटना में 32 साल के सिद्धार्थ शर्मा की मौत हो चुकी है। उसके रिश्तेदारों ने इस मामले में पुलिस पर निष्क्रियता बरतने का आरोप लगाया है, जबकि पुलिस ने मामले में उचित कार्रवाई करने की बात कही है। शर्मा की बहन शिल्पा ने पुलिस की प्राथमिक स्तर की जांच में ‘कुछ नहीं करने’ और मामले में पुलिस की ओर से प्रोटोकाल की बात करते रहने का आरोप लगाया है।

पुलिस पर आरोपी के प्रति नरमी का आरोप लगाते हुए मृतक के पिता प्रेम राज शर्मा ने कहा कि आरोपी (नाबालिग) को दुर्घटना के तुरंत बाद गिरफ्तार करके जेल भेज देना चाहिए था। यदि चालक को मौके पर पकड़ लिया गया होता तो कार का मालिक और अन्य लोग खुद ब खुद पुलिस स्टेशन चले आते।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X