हिंदुत्व हिंदुस्तान की आत्मा है, इसी वजह से भारत बना पंथनिरपेक्ष- बोले केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी

नकवी ने तंज कसते हुए कहा, ”सलमान खुर्शीद की पार्टी की एक ही दिक्कत है, कांग्रेस एक ऐसी नॉन परफॉर्मिंग एसेट बन गई है कि जिसका अंदर कोई मोल नहीं रह गया है और न बाहर कोई भाव रह गया है।”

mukhtar abbas naqvi
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी। (एक्सप्रेस फोटो)।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने अपनी किताब ‘सनराइज ओवर अयोध्या’ में हिंदुत्व की तुलना आईएसआईएस और बोको हरम से की है, जिसके बाद देश में हिंदुत्व को लेकर एक बार फिर बहस छिड़ गई है। इसी से जुड़े मुद्दे पर जब एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में एंकर ने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से सवाल किया तो उन्होंने कहा, ”हिंदुत्व, हिंदुस्तान की आत्मा है।”

आज तक के कार्यक्रम ‘एजेंडा आज तक” में मंच पर कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद और मुख्तार अब्बास नकवी मौजूद थे। इस दौरान एंकर अंजना ओम कश्यप ने कांग्रेस नेता की किताब का जिक्र करते हुए केंद्रीय मंत्री से सवाल किया, ”आपकी तो बांछें खिल गई होंगी, अब हिंदुत्व भी खतरे में आ जाएगा और हिंदू भी खतरे में आ जाएगा।”

इस पर नकवी ने कहा, ”’हिंदुत्व, हिंदुस्तान की आत्मा है। हिंदुस्तान की संसद में वसुधैव कुटुम्बकम् लिखा है जबकि पाकिस्तान की संसद में क्या लिखा है आपको मालूम है। यानी इसी हिंदुत्व के संस्कार, संस्कृति और सनातनी संकल्प का नतीजा है कि बंटवारे के बाद हिंदुस्तान पंथनिरपेक्ष देश बना और पाकिस्तान की सोच का नतीजा है कि वहां इस्लामिक झंडा फहराया गया। इसी हिंदुत्व की ताकत और संस्कारों का नतीजा है कि आज हम अनेकता में एकता की बातें करते हैं, एक भारत, श्रेष्ठ भारत की बात करते हैं।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”जिस वक्त देश बंटा, पाकिस्तान में 24 फीसदी से अल्पसंख्यक रहते थे जिनमें हिंदू, सिख आदि थे सभी थे जबकि आज वहां अल्पसंख्यक 2 फीसदी हैं। हिंदुस्तान में तब 8 फीसदी अल्पसंख्यक थे जो आज 22 फीसदी से अधिक है। यानी हिंदुत्व ने यहां पर किसी भी मजहब को, समाज के किसी भी हिस्से को, किसी भी संस्कार को अपने संकल्पों से अलग नहीं होने दिया।” उन्होंने कहा, ”जैसा कि खुर्शीद भाई कह रहे थे कि जिसका जो भी मजहब है, संस्कार और संस्कृति है वो फले-फुले और हिंदुस्तान की राष्ट्रवादी सोच के साथ आगे बढ़े, लेकिन दिक्कत ये नहीं है।”

नकवी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा, ”सलमान खुर्शीद की पार्टी की एक ही दिक्कत है, कांग्रेस एक ऐसी नॉन परफॉर्मिंग एसेट बन गई है कि जिसका न अंदर कोई मोल रह गया है और न बाहर कोई भाव रह गया है।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”अयोध्या पर जो फैसला आया, उसके बाद किसी ने जीत का जश्न नहीं मनाया और किसी ने हार पर हाहाकार नहीं किया। इसके बाद अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है और इसको सभी लोग स्वीकार कर रहे हैं। इसके बाद अगर हिंदुत्व या अयोध्या को लेकर जिस तरीके से विवाद पैदा किया जा रहा है तो इसके पीछे निश्चित तौर पर सियासी मानसिकता और मकसद होगा।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट