ताज़ा खबर
 

केंद्रीय विद्यालयों और सीबीएसई स्कूलों में 10वीं तक हिन्दी हो सकती है अनिवार्य

हाल ही में संसदीय समिति ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को हिन्दी में भाषण देने को भी अनिवार्य करने की सिफारिश की थी।

Author Updated: April 18, 2017 9:25 PM
मंत्रालय को हिन्दी भाषा अनिवार्य बनाने के लिए राज्य सरकारों के साथ सलाह मशविरा करके एक नीति बनाने का भी निर्देश दिया गया है।

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से संबद्ध स्कूलों और केन्द्रीय विद्यालयों के छात्रों के लिए दसवीं कक्षा तक हिन्दी पढ़ना अनिवार्य हो सकता है क्योंकि इस संबंध में एक संसदीय समिति की सिफारिश को राष्ट्रपति की मंजूरी मिल गई है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय को हिन्दी भाषा अनिवार्य बनाने के लिए राज्य सरकारों के साथ सलाह मशविरा करके एक नीति बनाने का भी निर्देश दिया गया है।

राष्ट्रपति के हस्ताक्षरित आदेश में कहा गया है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय को पाठ्यक्रम में हिन्दी भाषा को अनिवार्य बनाने के लिए गंभीर प्रयास करना चाहिए। पहले कदम के रूप में, हिन्दी को सीबीएसई और केन्द्रीय विद्यालय संगठन के सभी स्कूलों में दसवीं कक्षा तक एक अनिवार्य विषय बनाया जाना चाहिए। इसमें कहा गया कि केन्द्र को राज्य सरकारों के साथ सलाह मशविरा करके एक नीति बनानी चाहिए।

ये सिफारिशें राजभाषा पर संसद की समिति की नौवीं रिपोर्ट में की गईं। सीबीएसई ने पिछले साल तीन भाषा का फार्मूला (अंग्रेजी और दो अन्य भारतीय भाषाएं) नौवीं और दसवीं कक्षा में भी लागू करने की सिफारिश की थी। हालांकि मंत्रालय ने अब तक इस सुझाव पर कोई फैसला नहीं किया है। गौरतलब है कि हाल ही में संसदीय समिति ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को हिन्दी में भाषण देने को भी अनिवार्य करने की सिफारिश की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सीनियर कांग्रेस नेता बोले – अब तो लोगों के फोन में अजान है, लाउड स्पीकर की क्या जरूरत
2 आसान है आधार कार्ड बनवाना, ये है प्रक्रिया
3 ट्रंप प्रशासन ने भारत को बनाया अहम डिफेंस पार्टनर
IPL 2020 LIVE
X