ताज़ा खबर
 

Coal Scam: मनमोहन सिंह से CBI ने की पूछताछ

माना जाता है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने हिंडाल्को से जुड़े कोयला खान आबंटन मामले में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से पूछताछ की है। लेकिन न तो सिंह और न ही एजंसी ने इसकी पुष्टि करने की है। इस बीच विशेष अदालत ने एक कोयला खान आबंटन घोटाले से जुड़े एक अन्य मामले में […]

Author January 21, 2015 1:54 PM
कोयला घोटाले: CBI ने की मनमोहन से पूछताछ!

माना जाता है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने हिंडाल्को से जुड़े कोयला खान आबंटन मामले में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से पूछताछ की है। लेकिन न तो सिंह और न ही एजंसी ने इसकी पुष्टि करने की है। इस बीच विशेष अदालत ने एक कोयला खान आबंटन घोटाले से जुड़े एक अन्य मामले में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा और आठ अन्य को मंगलवार को समन जारी किए।

जानकार सूत्रों ने बताया कि सीबीआइ के अधिकारियों की एक टीम ने दो दिन पहले पूर्व प्रधानमंत्री से उनके निवास पर पूछताछ की। सीबीआइ को इस मामले में स्थिति रपट 27 जनवरी तक सीबीआइ की विशेष अदालत में दाखिल करनी है। मनमोहन सिंह से यह पूछताछ अदालत के 16 दिसंबर के आदेश के तहत हिंडाल्को को तालाबिरा-दो खान के आबंटन से जुड़े कोयला घोटाला मामले के संबंध में की गई। इस आबंटन के समय सिंह के पास कोयला मंत्रालय की भी जिम्मेदारी थी। सीबीआइ प्रवक्ता कंचन प्रसाद ने इस बारे में संपर्क करने पर न तो घटना की पुष्टि की, न ही इससे इनकार किया। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री के एक सहयोगी ने इससे इनकार किया।

सूत्रों के मुताबिक मनमोहन सिंह से उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला के दो पत्रों के बाद कोयला मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के घटनाक्रम के बारे में पूछताछ की गई। बिड़ला ने सात मई 2005 और 17 जून 2005 को तत्कालीन प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर तालाबिरा-दो कोयला खान हिंडाल्को को आबंटित करने का आग्रह किया था।

सीबीआइ के विशेष जज भरत पराशर ने इस मामले में सीबीआइ की अंतिम (क्लोजर) रपट स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था कि यह उचित होगा कि इस मामले के विभिन्न पहलुओं पर कोयला मंत्री की जिम्मेदारी संभालने वाले (मनमोहन सिंह) से पहले पूछताछ की जाए।

इस बीच विशेष अदालत ने एक कोयला खान आबंटन घोटाले से जुड़े एक मामले में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा और आठ अन्य को मंगलवार को आरोपी के रूप में समन जारी किया। अदालत ने सीबीआइ के आरोप पत्र का संज्ञान लेते हुए ये समन जारी किए। अदालत ने कहा कि कोयला ब्लाक आबंटन प्रक्रिया में शामिल सरकारी अधिकारियों ने आरोपी फर्म को अनुचित फायदा पहुंचाने के लिए ‘अपने आधिकारिक पद का दुरुपयोग’ किया।

यह मामला कोलकाता की विनी आयरन एवं स्टील उद्योग लिमिटेड को झारखंड में राझरा उत्तर (केंद्रीय और पूर्वी)कोयला ब्लाक के आबंटन से जुड़ा है। इसमें कंपनी के अलावा इसके निदेशक वैभव तुलस्यान, चार्टर्ड एकाउंटेंट नवीन कुमार तुलस्यान और कोडा के निकट सहायक विजय जोशी को भी समन जारी किया गया है। दो सेवानिवृत्त आइएएस अधिकारी-पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता और झारखंड के पूर्व प्रधान सचिव अशोक कुमार बसु और छह अन्य को भी नोटिस जारी किया है। आरोपियों से 18 फरवरी को अदालत के समक्ष हाजिर होने को कहा गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App