पेट्रोल-डीजल के दामों में हुई बेहिसाब बढ़ोतरी पर बोले पेट्रोलियम मंत्री, उम्मीद है जल्द लोगों को पहुंचाएंगे राहत

रविवार को तेल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी की गई थी। हालांकि दो दिनों से यानी सोमवार और मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से पिछले 18 महीने में पेट्रोल करीब 36 रुपए और डीजल करीब 27 रुपए महंगा हुआ है। (एक्सप्रेस फोटो)

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों की वजह से जनता त्राहिमाम कर रही है। देश के कई शहरों में पेट्रोल 100 रुपए के ऊपर बिक रहा है। कमोबेश यही हाल डीजल का भी है। बड़े शहरों में डीजल की कीमत भी 100 के पार चली गई है। इसी बीच केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी ने ईंधन के बढ़ते दामों को लेकर कहा है कि उम्मीद है कि हम जल्दी ही लोगों को राहत पहुंचाएंगे।

नई दिल्ली में भाजपा की तरफ से छठ व्रतियों के लिए आयोजित किए गए टीकाकरण अभियान के मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी ने ईंधन के बढ़ते दामों को लेकर कहा कि कांग्रेस की सरकार के दौरान पेट्रोल के दामों को डिरेगुलेट किया गया था। हम कई स्तर पर काम कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि वे सऊदी अरब, गल्फ देशों और रूस के अपने समकक्ष मंत्रियों से बात कर रहे हैं। उनको कह रहे हैं कि अगर पेट्रोल के दाम ज्यादा बढ़ गए तो लोग इसे खरीद नहीं पाएंगे। इसलिए पूरी उम्मीद है कि हम लोगों तक राहत पहुंचा पाएंगे।

रविवार को तेल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी की गई थी। हालांकि दो दिनों से यानी सोमवार और मंगलवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। मौजूदा समय में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल करीब 107.59 रुपए प्रति लीटर है और डीजल करीब 96.32 रुपए बिक रहा है। वहीं मुंबई में पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमशः 113.46 रुपए और 104.38 रुपए है। इसके अलावा कोलकाता में पेट्रोल 108.11रुपए और डीजल 99.43 रुपए बिक रहा है। जबकि चेन्नई में पेट्रोल की कीमत 104.52 रुपए और डीजल की कीमत 100.59 रुपए है। 

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से कई राज्यों में पेट्रोल और डीजल की कीमत शतक के पार जा चुकी है। कच्चे तेल के दामों में बढ़ोतरी होने की वजह से पिछले 18 महीने में पेट्रोल करीब 36 रुपए और डीजल करीब 27 रुपए महंगा हुआ है। पिछले साल सरकार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम 19 डॉलर प्रति बैरल के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आने के बाद पेट्रोल और डीजल पर लगने वाले उत्पाद शुल्क को बढ़ा दिया था। उम्मीद जताई जा रही थी कि कच्चे तेल के दामों में बढ़ोतरी होने के बाद उत्पाद शुल्क में कमी की जाएगी. लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पहले की तरह ही पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 32.9 रुपए और डीजल पर उत्पाद शुल्क 31.8 रुपये प्रति लीटर लग रहा है।  

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा
अपडेट