ताज़ा खबर
 

केरल में स्कूलों, कॉलेजों में सभी तरह के विरोध प्रदर्शन पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक, जज ने कहा- ये जगह पढ़ाई के लिए

न्यायमूर्ति पीबी सुरेश कुमार ने कहा कि 'शैक्षणिक संस्थान पढ़ाई से संबंधित गतिविधियों के लिए हैं न कि विरोध प्रदर्शन के लिए। किसी को भी अन्य छात्रों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करने का अधिकार नहीं है।

campus volence, jnu agitation, students protest, kerala students agitate, delhi violence, kerala news, High court , caa, nrcविरोध प्रदर्शन करते छात्र। (फाइल फोटो) सोर्स: Indian Express

केरल हाई कोर्ट ने बुधवार (26 फरवरी) को स्कूलों, कॉलेजों में सभी तरह के विरोध प्रदर्शन पर रोक लगी दी। कोर्ट ने कहा है कि ये जगह पढ़ाई के लिए है न कि विरोध प्रदर्शन के लिए। कोर्ट ने कहा कि इस तरह के विरोध प्रदर्शन, घेराव और कैंप में धरना आदि शैक्षणिक संस्थानों के कामकाज को बाधित करते हैं। न्यायमूर्ति पीबी सुरेश कुमार ने कहा कि ‘शैक्षणिक संस्थान पढ़ाई से संबंधित गतिविधियों के लिए हैं न कि विरोध प्रदर्शन के लिए। किसी को भी अन्य छात्रों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करने का अधिकार नहीं है।

उन्होंने कहा ‘शैक्षणिक संस्थानों को शांतिपूर्ण चर्चा के स्थान के तौर पर देखा जाना चाहिए। कोर्ट ने यह जजमेंट अलग-अलग कॉलेज और स्कूल प्रशासन द्वारा दायर याचिकाओं पर दिया। याचिकाओं में शैक्षणिक संस्थानों में किए जा रहे विरोध प्रदर्शन से हो रही परेशानियों का जिक्र किया गया था। याचिका में कहा गया कि अलग-अलग छात्रसंघ संगठनों के द्वारा आयोजित होने वाले इन विरोध प्रदर्शनों में राजनीति के चलते स्टूडेंट्स की कक्षाएं और पढ़ाई प्रभावित होती हैं। ऐसे में कोर्ट को इसका कोई समाधान करना चाहिए।

अदालत के आदेश में आगे कहा गया है कि छात्रों को आंदोलन और हड़ताल में भाग लेने के लिए किसी को नहीं बुलाना चाहिए, इससे कक्षाओं के सुचारू संचालन में बाधा उत्पन्न हो सकती है। अदालत ने माना कि किसी को भी किसी छात्र के अध्ययन के अधिकार को प्रभावित करने का अधिकार नहीं है और आश्वासन दिया कि अदालत द्वारा जारी किए गए आदेश का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है हाल में देश के अलग-अलग हिस्सों में संशोधित नागरिकता कानून, एनआरसी जैसे मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन हुए हैं जिसके चलते स्टूडेंट्स की पढ़ाई प्रभावित हुई हैं और कैंपस में माहौल अशांत रहा है। वहीं कई मौकों पर छात्र कॉलेज प्रशासन और स्कूल प्रशासन के फैसलों के खिलाफ एकजूट हो जाते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्लीः पुलिस-पब्लिक मिल कर लगा रही थी आग- आपबीती सुनाते रो पड़े दंगा पीड़ित
2 नीरव मोदी की रॉल्स रॉयस घोस्ट कार, डायमंड वाली घड़ियों समेत 112 संपत्तियों की होगी नीलामी
3 Delhi Violence: लड़की ने डोभाल से कहा- डर के मारे रात भर सो नहीं पाए, एनएसए बोले- पुलिस आपकी रक्षा करेगी, ये मेरा दावा
ये पढ़ा क्या...
X