ताज़ा खबर
 

क्‍या पत्‍नी के चलते AAP के नहीं हो सके नवजोत सिंह सिद्धू, बनानी पड़ी नई पार्टी?

सिद्धू ने गुरुवार को अपनी पार्टी 'आवाज-ए-पंजाब' की आैपचारिक घोषणा की।

नवजोत कौर सिद्धू। (Source: Express Photo by Kamleshwar Singh)

नवजोत सिंह सिद्धू ने गुरुवार को अपनी पार्टी बनाने का औपचारिक ऐलान कर दिया। इस ऐलान से पहले तक उनके आम आदमी पार्टी में शामिल होने की चर्चाएं थीं। अपनी पार्टी की औपचारिक घोषणा करते वक्‍त सिद्धू ने AAP के मुखिया अरविंद केजरीवाल पर तीखे हमले किए। ‘आवाज-ए-पंजाब’ बनाने की घोषणा करते हुए उन्‍होंने कहा कि AAP पिछले दो साल से उनपर ‘डोरे डालने की कोशिश’ कर रही थी। सिद्धू ने केजरीवाल पर आधा-अधूरा सच बताने का भी आरोप लगाया। राज्‍यसभा से इस्‍तीफा देने के बाद केजरीवाल से मुलाकात और इस्‍तीफे में उनकी भूमिका से जुड़े सवाल पर सिद्धू ने कहा, ”केजरीवाल जी ने मुझसे मुलाकात के बारे में ट्वीट किया, लेकिन उन्‍होंने आधा सच बताया। मैं पूरी बात बताता हूं। जब मैं उनसे मुलाकात करने गया तो उनसे कहा कि मैं 60 साल की पार्टी और 12 साल की सेवा छोड़कर आपके पास पंजाब के लिए आया हूं। बताइए क्या करना है। तो उन्होंने कहा कि आप चुनाव मत लड़िए, अपनी पत्नी को चुनाव में खड़ा कर दीजिए। हम उन्हें मंत्री बना देंगे। लेकिन उसके बाद मैंने कहा ‘सतश्री अकाल’। वे (AAP) भोली सूरत दिल के खोटे, नाम बड़े और दर्शन छोटे।” सिद्धू ने यह भी कहा कि केजरीवाल को खाली ‘हां में हां मिलाने वाले’ चाहिए।

18 जुलाई को राज्‍यसभा से इस्‍तीफा देने के बाद सिद्धू की AAP से बंद दरवाजाें के पीछे बातचीत चल रही थी। सिद्धू ने इस्‍तीफे के बाद अरविंद केजरीवाल से मुलाकात भी की थी, जिसके बाद सिद्धू दंपती के AAP में शामिल होने की संभावनाएं बलवती हो गईं। इस बीच सिद्धू की पत्‍नी नवजोत लगातार AAP की तारीफ करती रहीं। अपुष्‍ट खबर आई कि सिद्धू ने AAP से अपने और पत्‍नी नवजोत कौर के लिए टिकट मांगा था। कौर फिलहाल भाजपा की विधायक हैं। हालांकि आम आदमी पार्टी के संविधान के चलते बात अटक गई। AAP के संविधान के अनुसार, एक ही परिवार के दो लोग चुनाव नहीं लड़ सकते। इसलिए सिद्धू और उनकी पत्‍नी में से पार्टी नवजोत कौर को टिकट देने पर तैयार थी, मगर बात बन नहीं सकी। चर्चा यह भी थी कि सिद्धू ने AAP से खुद को मुख्‍यमंत्री पद का उम्‍मीदवार बनाए जाने की मांग भी रखी थी, जिसपर पार्टी नहीं मानी। सिद्धू के पास अब कोई विकल्‍प नहीं बचा था, लिहाजा उन्‍होंने और असंतुष्‍टों को अपने साथ जोड़ा और नई पार्टी बना ली।

READ ALSO: आखिर सिद्धू ने बता ही दिया क्‍यों दिया था राज्‍यसभा से इस्‍तीफा, अब तक चुप थे दोनों पक्ष

READ ALSO: नवजोत सिंह सिद्धू बोले- केजरीवाल ने कहा आप चुनाव मत लड़िए, पत्नी को मंत्री बना देंगे तो मैंने कहा सत श्री अकाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App