फोटोग्राफर साथ लेकर बीमार मनमोहन सिंह से मिलने गए स्वास्थ्य मंत्री, सोशल मीडिया पर लोगों ने यूं निकाली अपनी भड़ास

कई यूजर्स ने ये भी कहा कि पूर्व पीएम को इंफेक्शन का खतरा है, ऐसे में उनके कमरे में इतने लोगों का मौजूद होना खतरनाक साबित हो सकता है।

Mansukh Mandaviya
ट्विटर यूजर्स ने कहा कि मनमोहन सिंह फोटो सेशन की कंडीशन में नहीं थे, फिर भी उनकी फोटो लेकर राइट टू प्राइवेसी का उल्लंघन किया गया है। (FilePhoto/MansukhMandaviya)

देश के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की तबीयत ठीक नहीं है। इस बीच जब स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया उनसे फोटोग्राफर के साथ मिलने पहुंचे, तो सोशल मीडिया पर लोगों ने जमकर भड़ास निकाली।

ट्विटर यूजर @suhasinih ने लिखा कि उनकी फोटो खींचकर राइट टू प्राइवेसी का उल्लंघन किया गया है। @DrAMSinghvi ने भी ये बात लिखी कि पेशेंट की प्राइवेसी खत्म की गई।

कई यूजर्स ने ये भी कहा कि पूर्व पीएम को इंफेक्शन का खतरा है, ऐसे में उनके कमरे में इतने लोगों का मौजूद होना खतरनाक साबित हो सकता है।

इसके अलावा कई ट्विटर यूजर्स ने ये सवाल भी उठाए कि मनमोहन सिंह फोटो सेशन की कंडीशन में नहीं थे, फिर भी अस्पताल प्रशासन ने एक फोटोग्राफर को एक मरीज के कमरे में क्यों जाने दिया, खासकर तब, जब उनके परिवार की स्पष्ट अनुमति नहीं थी।

बता दें कि मनमोहन सिंह को डेंगू होने की जानकारी सामने आई है। उनकी बेटी दमन सिंह का कहना है कि उनकी हालत स्थिर है, लेकिन उम्र और बीमारी को देखते हुए उनकी प्रतिरोधक क्षमता कम है।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री का चिंता व्यक्त करना और एम्स में मिलने आना अच्छा था। लेकिन उस समय परिवार फोटो खिंचवाने की स्थिति में नहीं था। मेरी मां [गुरशरण कौर] ने जोर देकर कहा कि संक्रमण के डर से फोटोग्राफर को कमरे से बाहर जाना चाहिए, लेकिन उसे पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया।

दमन ने न्यूज वेबसाइट द वायर से कहा कि हमारा परिवार बहुत दुखी है। मेरे माता-पिता बुजुर्ग हैं, वो चिड़ियाघर के जानवर नहीं है। इसलिए उनकी प्राइवेसी की इज्जत करना चाहिए।

बता दें कि कांग्रेस ने शुक्रवार को बयान जारी कर बताया है कि मनमोहन सिंह पहले से बेहतर स्थिति में हैं। उनकी निजता का सम्मान करें। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव प्रणव झा ने ये जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम के बारे में आधारहीन बातें की जा रही हैं, जो ठीक नहीं है। वे डॉक्टरों की निगरानी में हैं। उन्हें बेहतर देखभाल के लिए ही हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पश्चिम बंगाल में सियासी बदलाव के संकेतRajasthan BJP Government