ताज़ा खबर
 

कांग्रेस पार्टी को इनकम टैक्स का नोटिस, हवाला के जरिए राजनीतिक चंदा लेने का आरोप

पार्टी ने हैदराबाद की एक कंपनी से चंदा लिया था जिसका हिसाब न देने पर ये नोटिस जारी किया गया है। इससे पहले 4 नवंबर को भी इस मामले में विभाग द्वारा नोटिस दिया गया था, लेकिन पार्टी की तरफ से कोई जवाब नहीं आया।

Author नई दिल्ली | Updated: December 3, 2019 2:41 PM
आयकर विभाग ने 170 करोड़ रुपये लेने पर कांग्रेस को नोटिस भेजा

Income tax department, Congress, Hawala: देश की मुख्य विपक्षी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को आयकर विभाग ने बड़ा झटका दिया है। आयकर विभाग ने राजनीतिक चंदे को लेकर पार्टी को नोटिस जारी किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पार्टी ने हैदराबाद की एक कंपनी से चंदा लिया था जिसका हिसाब न देने पर ये नोटिस जारी किया गया है। विभाग ने 3,300 करोड़ रुपये के हवाला रैकेट मामले में कर चोरी की जांच के सिलसिले में यह नोटिस भेजा है।

अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि इस मामले में आगे की जांच के लिए यहां पार्टी को नोटिस भेजा गया है। बुनियादी ढांचा क्षेत्र के ‘‘अग्रणी कॉरपोरेट घरानों’’ से जुड़े कई परिसरों पर दिल्ली, मुंबई और हैदराबाद में छापों के बाद इस मामले का खुलासा हुआ था। 2 दिसंबर को जारी किए गए नोटिस में कहा गया है कि हैदराबाद की एक इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने हवाला के जरिए कांग्रेस को 170 करोड़ दिए थे।

इस कंपनी में छापे के दौरान आयकर विभाग को कांग्रेस के साथ कंपनी के लेन-देन का पता चला था। जिसके बाद आयकर विभाग ने 4 नवंबर को कांग्रेस कार्यालय के नेताओं को समन जारी किया था। विभाग द्वारा भेजे गए इस समन का पार्टी से कोई जवाब नहीं आया न ही कोई सामने पेश हुआ। इसके बाद अब जाकर आयकर विभाग ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

आयकर विभाग के लिए नीति बनाने वाले केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने नंवबर में एक बयान में कहा था कि कर चोरी के बड़े गिरोह का खुलासा करने के लिए ये छापे महीने के पहले सप्ताह में मारे गए थे। बयान में कहा गया था कि फर्जी बिल जारी करने और हवाला लेनदेन करने वाले लोगों के एक समूह पर दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, इरोड, पुणे, आगरा और गोवा में 42 स्थानों पर छापे मारे गए थे।

इन पैसों को सरकारी योजना के हिसाब से अलग रखा गया था और इसकी बोगस बिलिंग तैयार की गई थी। विभाग द्वारा की गई जांच में ये भी पाया गया है कि कंपनी की ओर से जो बोगस बिल तैयार किए गए थे, वो उन सरकारी योजनाओं से जुड़े थे जिनका सीधा संबंध इकोनॉमिक वीकर सेक्शन से था।

अधिकारियों ने बताया कि आयकर विभाग की नजर इस मामले में कांग्रेस के कुछ पदाधिकारी और आंध्र प्रदेश स्थित एक राजनीतिक दल पर भी है। बता दें कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी की ओर से 150 करोड़ रुपये का चंदा चन्द्रबाबू नायडू की टीडीपी को भी भेजा गया था। माना जा रहा है कि आयकर विभाग जल्द ही तेलुगुदेशम पार्टी को भी नोटिस जारी कर सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘विधायक बनकर पगला जाता है शख्स’, जानें और क्या बोले गवर्नर सत्यपाल मलिक
2 संसद में अधीर रंजन चौधरी पर फूटा महिला बीजेपी सांसद का गुस्सा, कहा- निर्बल तो आप हो दादा
3 हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणि ने की मुगल गार्डन का नाम राजेंद्र प्रसाद उद्यान करने की मांग, पीएम से कर सकते हैं मुलाकात
जस्‍ट नाउ
X