ताज़ा खबर
 

हाथरस कांड: पहली बार BJP के किसी बड़े नेता ने की योगी आदित्यनाथ की खिंचाई, उमा भारती ने कार्रवाई पर दागे सवाल

COVID-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद उमा भारती को ऋषिकेश के एम्स में भर्ती हैं। भारती ने कहा कि अगर उनका स्वास्थ्य ठीक होता तो वह खुद भी पीड़िता के परिवार से मिलने हारथस जातीं। उन्होंने कहा कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह निश्चित ही परिवार से मिलने जाएंगी।

hathras gangrape, hathras rape case, hathras dalit rape caseहाथरस कांड: असम के गुवाहाटी में शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंकता Assam Pradesh Congress Committee (APCC) का कार्यकर्ता और नई दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन करते विभिन्न दलों के प्रदर्शनकारी। (फोटोः पीटीआई)

Hathras Gangrape Case में पहली बार BJP के किसी बड़े नेता ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की खिंचाई की है। शुक्रवार (दो अक्टूबर, 2020) को पार्टी की सीनियर नेता उमा भारती ने इस बाबत सवाल दागे। कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस की ‘‘संदिग्ध’’ कार्रवाई के कारण भाजपा, राज्य सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि को नुकसान पहुंचा है। उन्होंने इसके साथ ही सीएम से अनुरोध किया कि वह मीडियाकर्मियों और नेताओं को पीड़िता के परिवार से मिलने दें।

ये बातें उमा ने हिंदी में कुछ ट्वीट्स के जरिए कहीं। उन्होंने लिखा, ‘‘उत्तर प्रदेश पुलिस की संदिग्ध कार्रवाई के कारण भाजपा, उत्तर प्रदेश सरकार और राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि को नुकसान पहुंचा है।’’ भारती ने कहा कि पूरे हाथरस प्रकरण पर करीबी नजर रखे हुए हैं। साथ ही उन्होंने योगी आदित्यनाथ से अनुरोध किया कि वह मीडियाकर्मियों को एवं अन्य राजनीतिक दलों के लोगों को पीड़ित परिवार से मिलने दें।

यूपी के मुख्यमंत्री को साफ-सुथरी छवि वाला शासक बताते हुए भारती ने कहा, ‘‘मैं आपसे वरिष्ठ एवं आपकी बड़ी बहन हूं।’’ हालांकि उन्होंने यह भी जताया कि पुलिस द्वारा गांव और पीड़ित परिवार की घेराबंदी करने से वह बोलने के लिए मजबूर हुई हैं।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैंने हाथरस की घटना के बारे में देखा। पहले तो मुझे लगा कि मैं ना बोलूँ क्योंकि आप इस संबंध में ठीक ही कार्रवाई कर रहे होंगे। किन्तु जिस प्रकार से पुलिस ने गांव की एवं पीड़ित परिवार की घेराबंदी की है, उसके कितने भी तर्क हों, लेकिन इससे विभिन्न आशंकायें जन्मती हैं।’’ COVID-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद उमा भारती को ऋषिकेश के एम्स में भर्ती हैं। भारती ने कहा कि अगर उनका स्वास्थ्य ठीक होता तो वह खुद भी पीड़िता के परिवार से मिलने हारथस जातीं। उन्होंने कहा कि अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वह निश्चित ही परिवार से मिलने जाएंगी।

हाथरस कांडः गैंगरेप पीड़िता के परिजन 2 दिन तक रखे गए ‘कैद’, बोले- DM ने पूछा VIDEO कैसे वायरल हो रहे?

‘SIT जांच तक गांव में एंट्री नहीं’: हाथरस के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रकाश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मौजूदा स्थिति को देखते हुए, राजनीतिक प्रतिनिधियों या मीडिया कर्मियों को गांव में प्रवेश करने की अनुमति तब तक नहीं दी जाएगी जब तक एसआईटी अपनी जांच पूरी नहीं कर लेती।’’ अधिकारियों के अनुसार मामले पर देशव्यापी आक्रोश के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को तीन सदस्यीय एसआईटी का गठन किया था, जिसे 14 अक्टूबर तक अपनी जांच रिपोर्ट सौंपनी है। हाथरस प्रशासन ने बृहस्पतिवार को धारा 144 लागू कर दी थी।

‘मोहरों के निलंबन से क्या होगा? योगी इस्तीफा दें- प्रियंकाः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने हाथरस के कथित सामूहिक बलात्कार के मामले में कुछ पुलिस अधिकारियों के निलंबन के बाद शुक्रवार को कहा कि ‘मोहरों’ के निलंबन से क्या होगा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस्तीफा देना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि हाथरस के जिला अधिकारी और पुलिस अधीक्षक के फोन रिकॉर्ड सार्वजनिक किया जाना चाहिए ताकि पता चल सके कि किसके आदेश पर पीड़िता एवं उसके परिवार को कष्ट दिया गया।

दिल्ली में प्रदर्शन, केजरीवाल ने की निंदाः दिल्ली में शुक्रवार शाम बड़ा प्रदर्शन हुआ। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित राजनीतिक दलों के नेता, नागरिक संगठन के कार्यकर्ता, छात्र और महिलाएं काफी संख्या में जंतर मंतर पर जुटे। इस बीच, दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर पर इकट्ठा हुए प्रदर्शनकारियों के खिलाफ निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के लिये मामला दर्ज किया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ”प्रदर्शनकारियों ने कोविड-19 के मद्देनजर लागू धारा 144 और अन्य पाबंदियों का उल्लंघन किया, जिसके लिये उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 188 और महामारी अधिनियम तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों के तहत संसद मार्ग थाने में मामला दर्ज किया गया है।”

मंत्री ने हाथरस कांड को बताया ‘छोटा सा मुद्दा’: उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री अजीत सिंह पाल ने हाथरस में 19 वर्षीय लड़की के कथित सामूहिक बलात्कार और उसकी मौत की घटना को ‘छोटा सा मुद्दा’ करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि दलित किशोरी के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ था। उत्तर प्रदेश के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री पाल ने एक बयान में कहा, ‘‘डॉक्टरों ने साफ कर दिया है कि हाथरस की घटना में महिला के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ।’’ मंत्री के बयान से विवाद बढ़ने की आशंका है। बता दें कि हाथरस के एक गांव में 14 सितंबर को चार लोगों ने 19 वर्षीय दलित लड़की का कथित तौर पर बलात्कार किया था। मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में पीड़ित की मौत हो गई। (भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 हाथरस घटना में पुलिस की कार्रवाई से छवि खराब हुई, मीडिया और नेताओं को परिवार से मिलने दिया जाए: उमा
2 कुछ लोग ‘भ्रम और भय’ का माहौल पैदा कर सरकार चला रहे हैं : सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर साधा निशाना
3 मोहरों के निलंबन से क्या होगा, योगी आदित्यनाथ इस्तीफा दें: प्रियंका
ये पढ़ा क्या?
X