ताज़ा खबर
 

हाथरस कांडः CBI चार्जशीट में चारों आरोपियों पर रेप, हत्या का आरोप – बोले चारों के वकील

हाथरस गैंग रेप मामले की आईओ सीमा पाहुजा और सीबीआई के अफसर आज हाथरस जिला कोर्ट पहुंचे। यहां सीबीआई ने एससी/एसटी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की और चारों आरोपियों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज़ किया।

hathras gangrape case, cbi, chargesheet, live update, UP Government, JANSATTA चार्जशीट में चारों अपराधियों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज़। (File)

उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित गैंगरेप और हत्याकांड के मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने शुक्रवार को चार आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है। चार्जशीट में चारों अपराधियों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया गया है। सीबीआई ने 22 सितंबर को दिए गए पीड़िता के आखिरी बयान को आधार बनाते हुए चार्जशीट दाखिल की है।

आरोपियों के वकील मुन्ना सिंह पुंढीर ने अदालत के बाहर संवाददाताओं को बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने संदीप, लवकुश, रवि और रामू के खिलाफ सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के आरोप लगाए हैं तथा हाथरस में स्थानीय अदालत ने संज्ञान लिया है। उल्लेखनीय है कि इस दलित युवती से अगड़ी जाति के चार व्यक्तियों ने 14 सितंबर को कथित तौर पर बलात्कार किया था। 14 सितंबर को अपने गांव के ही खेत में गंभीर हालत में मिली थी। बाद में उसे अलीगढ़ के अस्पताल और उसके बाद दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

पीड़िता ने अपने ही गांव के 4 लड़कों पर गैंग रेप का आरोप लगाया था, जिसके बाद लोकल पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद उसकी 30 सितंबर की रात उसके घर के पास रात में अंत्येष्टि कर दी गई थी। युवती के परिवार ने आरोप लगाया था कि स्थानीय पुलिस ने आनन-फानन में अंत्येष्टि करने के लिए उन पर दबाव डाला था। हालांकि, स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने कहा, ‘‘अंत्येष्टि परिवार की इच्छा के अनुसार की गई।’’

अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी ने मामले के आरोपियों–संदीप, लवकुश, रवि और रामू–की भूमिका पर गौर किया है, जो न्यायिक हिरासत में हैं। उन्होंने बताया कि गुजरात के गांधीनगर स्थित प्रयोगशाला (लैबोरेट्री) में आरोपियों की विभिन्न फोरेंसिक जांच भी की गई है।

सीबीआई के जांचकर्ता जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के चिकित्सकों से भी मिले। कथित सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद पीड़िता को इसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को व्यापक स्तर पर आलोचना का सामना करना पड़ा था। बाद में, यह मामला सीबीआई को हस्तांतरित कर दिया गया। सीबीआई ने घटना की जांच के लिए एक टीम गठित की और जांच कार्य अपनी गाजियाबाद (उप्र) इकाई को सौंपा था। टीम, पीड़िता के परिवार के सदस्यों के बयान दर्ज कर चुकी है।

(भाषा इनपुट के साथ)

Next Stories
1 किसान आंदोलनः 23 दिन में 22 ‘शहीद’, राहुल बोले- और कितनों को देनी होगी कुर्बानी?; चिपको आंदोलन के नेता से प्रदर्शन को समर्थन
2 Kerala Nirmal Lottery NR-203 Today Results: 70 लाख रुपये तक के लॉटरी नतीजे घोषित, यहां देखें आपकी लगी या नहीं?
3 TMC छोड़ते ही शुवेंदु अध‍िकारी को केंद्र ने दी ‘Z’ स‍िक्‍योर‍िटी, ममता की पार्टी में बड़ी टूट का खतरा
ये पढ़ा क्या?
X