ताज़ा खबर
 

बकरीद से पहले गौमांस की गुपचुप बिक्री पर सख्त हरियाणा सरकार, बिरयानी के सैंपलों की भी करवाएगी जांच

बकरा ईद को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार ने बीफ या गौमांस बेचने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लेने का मन बना लिया है।
बिरयानी के सैंपलों की जांच करेगी हरियाणा पुलिस।

बकरीद को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार ने बीफ या गौमांस बेचने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लेने का मन बना लिया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, हरियाणा में पुलिस ऐसे दुकानदारों पर नजर रख रही है जिनपर बीफ बेचने का शक है। दरअसल, 11 सितंबर को देशभर में बकरा ईद बनाई जाने वाली है। ऐसे में हरियाणा सरकार द्वारा बनाए गए गौ सेवा आयोग ने गौमांस बेचने वालों को पकड़ने के लिए पुलिस से गुहार लगाई है। खबर के मुताबिक, हरियाणा के मेवात जिले में सड़क पर बिरयानी की दुकान लगाने वाले सभी लोगों से पुलिस उनकी बिरयानी के सैंपल ले रही है ताकि पता लगाया जा सके कि उनकी बिरयानी में गाय का मांस तो नहीं है। मेवात हरियाणा के उन जिलों में शामिल है जहां मुस्लिम धर्म के लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है। हरियाणा की डीआईजी, भारती अरोड़ा ने एक स्पेशल टास्क फोर्स भी बनाई है। यह टास्क फोर्स गौ-तस्करों और गाय का मांस बेचने वालों पर नजर रखेगी। भारती अरोड़ा ने बताया है कि मेवात की सभी दुकानों से सैंपल लेने के बाद जिले के बाहर भी ऐसी ही सैंपलिंग की जाएगी।

पुलिस को शक है कि दुकान वाले मटन और कबाब में गाय का मांस मिलाकर बेचते हैं। पुलिस ने बताया कि उन्हें ऐसी शिकायत मिली है कि दुकान वाले चावल में गाय का मांस मिलाकर बेचते हैं। हरियाणा उन राज्य में से है जिसने गौहत्या पर प्रतिबंध को सख्ती से लागू किया है। वहां गौहत्या पर 10 साल की सजा है। दूसरी तरफ, इस कार्रवाई को कांग्रेस ने गलत बताया है। कांग्रेस के सीनियर नेता आफताब अहमद ने कहा कि बीजेपी धर्म विशेष को शर्मिंदा और अपमानित करने के लिए ऐसा कर रही है।

Read Also: गायों की तस्करी और हत्या रोकने के लिए कड़े कानून के बाद हरियाणा सरकार ने शुरू की 24 घंटे हेल्पलाइन

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.