ताज़ा खबर
 

Harayana Elections 2019: ‘कांटेदार सीट’ पर कभी नहीं जीती BJP, विदेश में 1 करोड़ का पैकेज छोड़ लड़ने आईं चुनाव; जानती हैं 10 भाषाएं

नौक्षम की मां रंजीत कौर हरियाणा काडर की आईएएस अधिकारी हैं, वहीं उनके पिता आरएस चौधरी जज हैं। पुन्हाना सीट मुस्लिम बहुल इलाका है।

Author नई दिल्ली | Updated: October 15, 2019 10:42 PM
हरियाणा की पुन्हाना सीट से बीजेपी कैंडिडेट नौक्षम चौधरी। (फाइल फोटोः nauksham.chaudhary)

हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार जोरो पर है। कई सीटों पर कांटे की टक्कर है। जिन सीटों पर कांटे की टक्कर है, उन्हीं में से एक सीट है हरियाणा के मेवात जिले की पुन्हाना सीट। बता दें कि इस सीट पर भाजपा ने कभी भी जीत हासिल नहीं की है। इस बार भाजपा ने इस सीट से नौक्षम चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया है। बता दें कि नौक्षम चौधरी पुन्हाना में चर्चा का विषय बनी हुई हैं। दरअसल नौक्षम इस बात के लिए चर्चा में हैं कि उन्हें विदेश में करीब 1 करोड़ रुपए पैकेज की नौकरी का प्रस्ताव मिला था, लेकिन मैंने उसे छोड़कर चुनाव मैदान में उतरी हैं। इसके साथ ही नौक्षम 10 भाषाएं भी जानती हैं।

उल्लेखनीय है कि नौक्षम की मां रंजीत कौर हरियाणा काडर की आईएएस अधिकारी हैं, वहीं उनके पिता आरएस चौधरी जज हैं। पुन्हाना सीट मुस्लिम बहुल इलाका है। यही वजह है कि कांग्रेस ने इस सीट से पूर्व मंत्री और कद्दावर नेता मोहम्मद इलियास को चुनाव मैदान में उतारा है। नौक्षम चौधरी का कहना है कि पुन्हाना के लोगों ने ही उन्हें चुनाव मैदान में उतरने के लिए समर्थन दिया है।

नौक्षम चौधरी अपने चुनाव प्रचार के दौरान संवेदनशील मुद्दे जैसे आर्टिकल 370 और तीन तलाक को ज्यादा नहीं उठा रही हैं। उनका कहना है कि ये नाजुक मुद्दे है, इसलिए वह लोगों की भावनाएं आहत नहीं करना चाहती। उन्होंने कहा कि यह इलाका काफी पिछड़ा हुआ है और इसलिए उनकी प्राथमिकता में क्षेत्र का विकास है। कांग्रेस ने पहले इस सीट पर एजाज खान को अपना उम्मीदवार बनाया था, बाद में उनका टिकट काटकर मोहम्मद इलियास को उम्मीदवार बना दिया था।

नौक्षम चौधरी का दावा है कि एजाज खान खान उन्हें समर्थन दे रहे हैं। भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ने के सवाल पर नौक्षम का कहना है कि अब मुस्लिम वर्ग भी भाजपा के साथ जुड़ रहा है और लोग बदलाव चाहते हैं। भाजपा में शामिल होने के सवाल पर नौक्षम चौधरी ने कहा कि भाजपा युवाओं और पढ़े-लिखे लोगों को मौके दे रही है। इसलिए उन्होंने भाजपा से जुड़ने का फैसला किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 JK: नजरबंदी के बाद सामने आया पूर्व CM उमर अब्दुल्ला का पहला फोटो, दाढ़ी में नजर आया कुछ ऐसा हाल
2 डिबेट में कांग्रेसी ने पूछा- आज प्रियंका जी बीजेपी मोड में हैं या शिवसेना में? नेत्री बोलीं- थके हुए इंजन हैं आप
3 World Bank के बाद अब IMF ने भी घटायी भारत की विकास दर, 6.1 प्रतिशत रहने का अनुमान