ताज़ा खबर
 

हरियाणा विधानसभा चुनाव: बंद कमरे में मिले भूपिंदर सिंह हुड्डा और मायावती, कांग्रेस की शैलजा भी थीं मौजूद

इस बैठक में आगामी हरियाणा विधानसभा चुनावों में दोनों पार्टियां के साथ चुनाव लड़ने पर बात हुई। इस बैठक में दोनों पार्टियों के बीच सीट बंटवारे को लेकर बातचीत होने के भी कयास लगाए जा रहे हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: September 9, 2019 1:48 PM
भूपिंदर सिंह हुड्डा और मायावती के बीच हुई बैठक में कुमारी शैलजा भी मौजूद थीं। (फाइल फोटो)

हरियाणा में अक्टूबर के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसी चर्चाएं हैं कि हरियाणा विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और बसपा के बीच गठबंधन हो सकता है। दरअसल रविवार को दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हरियाणा के दो बार मुख्यमंत्री रहे भूपिंदर सिंह हुड्डा और बसपा सुप्रीमो मायावती के बीच बंद दरवाजे के पीछे बैठक हुई। खास बात ये है कि इस बैठक में हरियाणा कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा भी मौजूद थीं। हुड्डा और मायावती के बीच हुई यह बैठक आधे घंटे चली। पार्टी से जुड़े अंदरुनी सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

माना जा रहा है कि इस बैठक में आगामी हरियाणा विधानसभा चुनावों में दोनों पार्टियां के साथ चुनाव लड़ने पर बात हुई। इस बैठक में दोनों पार्टियों के बीच सीट बंटवारे को लेकर बातचीत होने के भी कयास लगाए जा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेताओं और मायावती के बीच यह मुलाकात ऐसे वक्त में हुई है, जब बसपा ने हरियाणा में जननायक जनता पार्टी (JJP) के साथ हुए चुनाव पूर्व गठबंधन से नाता तोड़ लिया है।

बता दें कि ओमप्रकाश चौटाला की पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) से टूटकर जननायक जनता पार्टी बनी है, जिसके मुखिया ओपी चौटाला के पोते दुष्यंत चौटाला हैं। खबर के अनुसार, 90 विधानसभा सीटों वाले हरियाणा में जेजेपी ने बसपा को 40 सीटें ऑफर की थी। हालांकि बसपा ने इस ऑफर को ठुकरा दिया है। बसपा ने हरियाणा में जेजेपी से गठबंधन टूटने का कारण सीटों के बंटवारे पर सहमति ना बनने को बताया है।

बता दें कि हरियाणा में कांग्रेस अपनी खोयी हुई सत्ता को फिर से पाना चाहती है। हालांकि पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व में भाजपा राज्य में काफी मजबूत दिखाई दे रही है और भाजपा की निगाहें आगामी चुनावों में राज्य की 90 में से 75 सीटों पर लगी हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस, बसपा के साथ गठबंधन कर अपनी स्थिति मजबूत करना चाहती है। हालांकि कांग्रेस को चुनावों में अन्तर्कलह का भी सामना करना पड़ सकता है।

बता दें कि बीते दिनों हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक सिंह तंवर और भूपिंदर सिंह हुड्डा के बीच मतभेद की खबरें आयीं थी। अब कांग्रेस आलाकमान ने तंवर को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर कुमारी शैलजा को उनकी जगह यह जिम्मेदारी सौंपी है। हालांकि हुड्डा पार्टी में अन्तर्कलह की खबरों को खारिज कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका किसी नेता के साथ मनमुटाव नहीं है और आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर सहित सभी नेताओं को साथ लेकर चलना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 VIDEO: बीजेपी नेता की दबंगई, टोल कर्मचारी से गालीगलौज और मारपीट, फिर हुए फरार
2 19 करोड़ की धांधली में गिरफ्तार नेता के खिलाफ केस खारिज, NDA की ओर से राहुल गांधी के खिलाफ लड़ चुके हैं चुनाव
3 असम के बाद अब महाराष्ट्र में लागू होगा NRC? अवैध प्रवासियों के लिए जेल बनाने की तैयारी: रिपोर्ट