ताज़ा खबर
 

हरियाणाः 1726 जनसूचना अधिकारी डिफॉल्टर, 2.27 करोड़ जुर्माना वसूली के लिए केस

राज्य सूचना आयोग द्वारा लगाए गए जुर्माने की राशि इन डिफॉल्टर्स ने सालों से जमा नहीं कराई है। साथ ही न इस बारे में कोई सूचना दी।

Haryana, Chadigarh, 1726 Public Information Officers, Defaultersतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

हरियाणा में सालों से 2.27 करोड़ रुपए जुर्माना राशि जमा न कराने वाले 1726 डिफॉल्टर जनसूचना अधिकारियों के खिलाफ शिकायत लोकायुक्त कोर्ट में पहुंची है। डिफॉल्टर लिस्ट में एचसीएस अधिकारी और कई अन्य उच्चाधिकारी भी हैं। लोकायुक्त को 24 जुलाई को शपथ-पत्र और आरटीआई दस्तावेजों सहित दी शिकायत में आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर ने आरोप लगाया कि अधिकांश सूचना अधिकारी न तो सूचनाएं देते हैं और न ही राज्य सूचना आयोग द्वारा लगाई गई जुर्माना राशि राजकोष में जमा कराते हैं।

उनके मुताबिक, “सरकार इन डिफॉल्टर्स के खिलाफ कोई विभागीय कारवाई करती है। नतीजतन पारदर्शिता और जवाबदेही के लिए बने आरटीआई एक्ट 2005 का मखौल बन रहा है। राज्य सूचना आयोग ने वर्ष 2006 से दिसंबर 2019 तक राज्य जनसूचना अधिकारियों पर कुल 3,50,54,740 रुपए जुर्माना लगाया था। पर 1726 जनसूचना अधिकारियों ने कई साल बीत जाने पर भी 2.27 करोड़ रूपये जुर्माना राशि जमा नहीं कराई। सरकार ने इस जुर्माना राशि की वसूली के लिए बार-बार सभी उच्चाधिकारियों को सर्कुलर भेजा, लेकिन इन आदेशों पर अमल नहीं हुआ।”

एक्टिविस्ट ने लोकायुक्त से मांग की कि सभी 1726 डिफाल्टर जनसूचना अधिकारियों से 2.27 करोड़ रुपये जुर्माना राशि ब्याज सहित वसूली जाए। ड्यूटी से लापरवाह इन जनसूचना अधिकारियों की एसीआर में विपरीत टिप्पणी दर्ज हो। जुर्माना राशि वसूली के लिए राज्य सूचना आयोग में विशेष प्रकोष्ठ गठित हो। जुर्माना वसूली न करने वाले ड्राईंग एंड डिसर्बसमैंट ऑफिसरों को दंडित किया जाए।

डिफॉल्टर्स में कौन-कौन से एचसीएस अधिकारी?: गायत्री अहलावत (5,000 रुपए), बिजेन्द्र हुड्डा (50,000/-), कु० शालिनी चेतल(25,000/-), प्रवीन कुमार (15,000/-), अरविंद मलहान (40,000/-), प्रशांत इस्कान (7500/-), मुकेश सोलंकी (1500/-), रीगन कुमार (10,000/-), संजय सिंगला (25,000/-), मनोज कुमार (5,000/-), राजेश कौथ (25,000/-), सतबीर झांगू (25,000/-), आरपी मक्कड़ (25,000/-)।

लिस्ट में इनके भी हैं नाम: वीएन भारती तत्कालीन ई.ओ. नगर परिषद् जींद (1,82, 000/-), अमन ढांडा तत्कालीन ई.ओ. नगर परिषद् हांसी(1,50,000/-), अश्विनी मलिक तत्कालीन एस्टेट ऑफिसर हुडा जींद (15,000/-), सतेन्द्र सिवाच तत्कालीन बीडीपीओ यमुनानगर (5,000/-), हरदीप सिंह तत्कालीन नगर परिषद भिवानी (50,000/-), वीएस मान तत्कालीन एसई यूएचबीवीएन पानीपत (12,500/-), डा० सुमन दलाल तत्कालीन चेयरपर्सन आईटीटीआर खानपुर कलां (60,000/-), अशोक छिक्कारा तत्कालीन बीडीपीओ करनाल (50,000/-), विकास सिंह तत्कालीन तहसीलदार सोनीपत (50,000/-), ईशम सिंह कश्यप नगर निगम गुरूग्राम (65,000/-), मनेन्द्र तत्कालीन ई.ओ. नगर निगम पंचकूला (50,000/-), अनिल धानिया तत्कालीन डीएफएससी करनाल (25,000/-), हरिओम अत्री तत्कालीन डीआरओ गुरूग्राम (50,000/-), पूनम चंद्रा तत्कालीन बीडीपीओ गन्नौर (25,000), मिनी आहुजा तत्कालीन प्रिंसिपल डीआईईटी हिसार (25,000/-), हितेश शर्मा तत्कालीन डीटीपी टाउन कंट्री प्लानिंग विभाग चंडीगढ़ (40,000/-), दीपक सूरा तत्कालीन ई.ओ. नगर निगम यमुनानगर (1,10,000/-), सतीश यादव तत्कालीन भूमि अधिग्रहण अधिकारी गुरूग्राम (75,000/-), श्रीमति नवीन अग्रवाल तत्कालीन अधीक्षक निदेशालय स्कूली शिक्षा विभाग हरियाणा (1,06,000/5), योगेन्द्र सिंह तत्कालीन डीएफएसओ पलवल (25,000/-), डा० एमआई खान तत्कालीन प्रिंसिपल यासीन मेव डिग्री कॉलेज मेवात (25,000/-), बलवार सिंह तत्कालीन डीआरओ रोहतक (25,000/-), अमरजीत सिंह तत्कालीन सचिव नगर निगम फरीदाबाद (25,000/-)।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘रोजगार दो मोदी सरकार, ये देश के भविष्य का सवाल है’, युवा कांग्रेस स्थापना दिवस पर राहुल गांधी की नई हुंकार
2 जिन 101 सैन्य उपकरणों के आयात पर सरकार ने लगाया बैन, देखें उसकी पूरी लिस्ट
3 नरेंद्र मोदी को वरिष्‍ठ पत्रकार की सलाह- अर्थव्‍यवस्‍था में चमत्‍कार चाहते हैं तो अपना लें मनमोहन सिंह की नीतियां
ये पढ़ा क्या?
X