ताज़ा खबर
 

राजद्रोह के मामले में देर रात गिरफ्तार हुए हार्दिक पटेल, 24 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे

डीसीपी जाला ने कहा कि, ‘‘हमने हार्दिक पटेल के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी होने के बाद उन्हें वीरमगाम के पास से गिरफ्तार किया है। हम उन्हें कल अदालत के समक्ष पेश करेंगे।’’

Author अहमदाबाद | Updated: January 19, 2020 8:38 AM
कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल को 2015 के राजद्रोह के एक मामले में निचली अदालत में पेश नहीं होने के कारण शनिवार को गुजरात के अहमदाबाद जिले के वीरमगाम तालुका से गिरफ्तार कर लिया गया। उनके खिलाफ वारंट जारी होने के कुछ घंटों बाद ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) राजदीप सिंह जाला (अपराध शाखा) ने पटेल की गिरफ्तारी की पुष्टि की है।

राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार: गौैरतलब है कि डीसीपी जाला ने बताया कि, ‘‘हमने हार्दिक पटेल के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी होने के बाद उन्हें वीरमगाम के पास से गिरफ्तार किया है। हम उन्हें कल अदालत के समक्ष पेश करेंगे।’’ अहमदाबाद में 25 अगस्त 2015 को पटेल समुदाय की एक रैली के दौरान हिंसा भड़कने के बाद स्थानीय अपराध शाखा ने राजद्रोह का मुकदमा दर्ज कर पटेल को पहले भी गिरफ्तार किया था। अतिरिक्त जिला न्यायाधीश बी जे गणात्रा की अदालत ने हार्दिक के खिलाफ वारंट जारी करने के बाद मामले की सुनवाई की अगली तिथि 24 जनवरी तय कर दी।

Hindi News Live Hindi Samachar 19 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

पहले भी हो चुके है गिरफ्तार: बता दें कि अहमदाबाद में पाटीदार आरक्षण को लेकर एक रैली आयोजित की गई थी। इस दौरान हिंसा भड़कने के बाद स्थानीय अपराध शाखा द्वारा दायर राजद्रोह के मामले में पटेल को पहले भी गिरफ्तार किया गया था। कांग्रेस नेता को जुलाई 2016 में जमानत दी गई थी, और अदालत ने नवंबर 2018 में उन्हें और अन्य आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किए थे।

 दर्जनभर लोग मारे गए थे:  गौरतलब है कि पाटीदार आरक्षण रैली के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया था। इसमें कई सरकारी बसें, पुलिस चौकियां और अन्य सरकारी संपत्ति में आग लगा दी गई थी, साथ ही  एक पुलिसकर्मी समेत लगभग दर्जन भर लोग मारे गए थे। पुलिस ने आरोप पत्र में हार्दिक और उनके सहयोगियों पर चुनी हुई सरकार को गिराने के लिए हिंसा फैलाने का आरोप लगाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 अब ईसा मसीह की मूर्ति पर विवाद, कर्नाटक में हिन्दू बनाम हिन्दू- ‘तुम 5000 लाओगे तो हम 55,000 लोग लाएंगे’
2 CAA का विरोध करने वाले IIT के जर्मन छात्र को झटका- विदेश मंत्रालय ने भारत आने से रोका, वीजा पर उठाए सवाल
3 CAA के समर्थन में अमित शाह की रैली, कहा – नागरिकता कानून वापस नहीं होगा
ये पढ़ा क्या?
X