Happy Women's Day 2018 Quotes, Antarrashtriya Mahila Diwas 2018: Modi government most powerful female leaders - Happy Women's Day 2018: जानिए मोदी सरकार में सबसे पावरफुल तीन महिलाओं के बारे में कुछ खास बातें - Jansatta
ताज़ा खबर
 

Happy Women’s Day 2018: जानिए मोदी सरकार में सबसे पावरफुल तीन महिलाओं के बारे में कुछ खास बातें

Happy Women's Day 2018 (अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2018): आज पूरी दुनिया में 'महिला दिवस' का आयोजन किया जा रहा है। इस मौके पर हम आपको मोदी सरकार की तीन सबसे पावरफुल महिला नेताओं सुषमा स्वराज, निर्मला सीतारमण और स्मृति ईरानी के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PTI Photo)

आमतौर पर माना जाता है कि राजनीति पुरुषों का काम है, लेकिन पिछले कुछ समय से इस सोच में बदलाव आया है। अब महिलाएं भी राजनीति में सक्रिय तौर पर न सिर्फ भाग ले रही हैं, बल्कि शीर्ष पदों पर भी पहुंच रही हैं। आजादी के बाद शुरुआती दौर में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने राजनीति में महिलाओं के प्रवेश को लेकर लोगों की सोच बदलने का काम किया था। वह पहली भारतीय महिला थीं, जो भारतीय राजनीति के सर्वोच्च पद पर पहुंची थीं। इंदिरा गांधी के कार्यकाल में जिस तरह से भारत ने पाकिस्तान को युद्ध में हराया, उससे कांग्रेस पार्टी पूरे देश में मजबूत होकर उभरी। इस पर भारत समेत पूरी दुनिया ने इंदिरा गांधी का लोहा माना था। आज पूरी दुनिया में ‘महिला दिवस’ का आयोजन किया जा रहा है। इस मौके पर हम आपको मोदी सरकार की तीन सबसे पावरफुल महिला नेताओं सुषमा स्वराज, निर्मला सीतारमण और स्मृति ईरानी के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं।

सुषमा स्वराज ( केन्द्रीय विदेश मंत्री): सुषमा स्वराज केन्द्रीय विदेश मंत्री के तौर पर न सिर्फ देश में, बल्कि विदेशों में भी काफी लोकप्रिय हैं। सुषमा स्वराज सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहती हैं। सुषमा स्वराज कई लोगों को ट्विटर के माध्यम से जल्दी वीजा दिलाने में मदद कर चुकी हैं। खासकर, पाकिस्तानियों के बीच वह काफी लोकप्रिय हैं। 1973 में 21 साल की उम्र में सुषमा स्वराज ने सुप्रीम कोर्ट में वकालत शुरू की थी। आपातकाल के दौरान अपने पति स्वराज कौशल के साथ वह भी विरोध प्रदर्शनों में शामिल रही थीं। सुषमा स्वराज दिल्ली की पहली महिला सीएम भी रह चुकी हैं। मौजूदा दौर के भाजपा के वरिष्ठ और अहम नेताओं में सुषमा स्वराज को शुमार किया जाता है।

निर्मला सीतारमण (केन्द्रीय रक्षा मंत्री): निर्मला सीतारमण देश की पहली महिला रक्षा मंत्री हैं, जिन्हें पूर्णकालिक प्रभार दिया गया है। सीतारमण से पहले इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए रक्षा मंत्रालय अपने पास रखा था। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से सीतारमण ने इकॉनोमिक्स में एमए की डिग्री ली है। राजनीति में आने से पहले सीतारमण ब्रिटेन में बतौर इकॉनोमिस्ट एक एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग फर्म के साथ काम कर चुकी हैं। इसके अलावा निर्मला सीतारमण प्राइस वाटरहाउस एजेंसी के साथ भी काम कर चुकी हैं। भारत लौटने के बाद वह भाजपा के साथ जुड़ गई। डोकलाम विवाद के बाद जिस तरह से निर्मला सीतारमण ने चीनी सैनिकों से मिली थी, उसकी चीनी मीडिया में भी काफी प्रशंसा हुई थी।

स्मृति ईरानी (केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री और कपड़ा मंत्री): अभिनेत्री से राजनेता बनी स्मृति ईरानी का शुमार भाजपा के बड़े नेताओं में होता है। जिस तरह से स्मृति ईरानी ने मनोरंजन जगत से करियर की शुरुआत करने के बाद भारतीय राजनीति में जगह बनायी, वह काबिले-तारीफ है। स्मृति ईरानी मौजूदा मोदी सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के साथ-साथ कपड़ा मंत्रालय जैसा अहम विभाग संभाल रही हैं। इससे पहले ईरानी मानव संसाधन विकास मंत्रालय भी संभाल चुकी हैं। स्मृति ईरानी का जन्‍म नई दिल्‍ली में एक मध्‍यमवर्गीय परिवार में हुआ था। स्‍कूली पढ़ाई के बाद वह टीवी और फिल्‍मों में करियर बनाने के लिए मुंबई चली गईं। साल 2003 में वह भाजपा में शामिल हो गईं, बाद में वह पार्टी प्रवक्‍ता और राज्‍य सभा सांसद चुनी गईं। एक बार टीवी पर बहस के दौरान एक कांग्रेसी नेता ने उन्‍हें ‘नाचने-गाने वाली’ कह दिया था। इस पर काफी हंगामा हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App