ताज़ा खबर
 

Happy Kargil Vijay Diwas 2019: जानिए, विजय दिवस का पूरा इतिहास, इस थीम पर मनाया जाएगा यह खास दिन

Kargil Vijay Diwas 2019:.. 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था। जिसमें भारत ने 527 जवानों की शहादत देकर विजय प्राप्त की थी। 26 जुलाई 1999 को ही हमारी जीत पर मुहर लगी थी। इसीलिए इस दिन पूरे भारत में विजय दिवस मनाया जाता है।

Kargil Vijay Diwas 2019: तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेई के साथ सेना के जवान। (फोटो सोर्स: Express Archive)

Kargil Vijay diwas 2019: आजादी मिलने के बाद से ही भारत और पाकिस्तान के बीच तनातनी रही है। पाकिस्तान हमेशा से ही अपने नापाक मंसूबों को पूरा करने के लिए भारत को उकसाता रहा है। हालांकि इसका खामियाजा पाकिस्तान को ही भुगतना पड़ा है। भारत और पाकिस्तान के बीच तीन युद्ध हुए। सन 1965, 1971 और 1999 में दोनों देशों के बीच लड़ाई हुई। इन तीनों में ही पड़ोसी देश को मुंह की खानी पड़ी। सबसे आखिर यानी 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था। जिसमें भारत ने 527 जवानों की शहादत देकर विजय प्राप्त की थी। 26 जुलाई 1999 को ही हमारी जीत पर मुहर लगी थी। इसीलिए इस दिन यानी 26 जुलाई को पूरे भारत में विजय दिवस मनाया जाता है। इस साल विजय उत्सव 25 से 27 जुलाई तक मनाया जाएगा। इस साल के कार्यक्रमों की थीम ‘रिमेंबर, रिज्वाइस एंड रिन्यू’ है।

पाकिस्तान ने इस युद्ध को ऑपरेशन कोह-ए-पैमा का नाम दिया था। जबकि भारत ने कारगिल युद्ध को ऑपरेशन विजय नाम दिया था।कारगिल सेक्टर को आजाद कराने के लिए यह नाम दिया गया था। कारगिल में भारत और पाकिस्तान के बीच लड़ी गई यह लड़ाई 3 मई से 26 जुलाई 1999 तक चली थी। दोनों देशों के सैकड़ों सैनिक इस लड़ाई में मारे गए। भारत के ही 527 जवान कारगिल युद्ध में शहीद हुए थे। 1999 के बाद से हर साल 26 जुलाई को भारत में कारगिल विजय दिवस के नाम से मनाया जाता है। युद्ध में पराक्रम दिखाते हुए भारत को विजय मिली थी। इसीलिए भारत में हर साल 26 जुलाई को विजय दिवस के तौर पर मनाते हैं। 26 जुलाई 2019 को कारगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठ है।

 

Next Stories
1 आजम खान को कोर्ट से तगड़ा झटका, भरने होंगे 3.27 करोड़ रुपए; कब्जा हटने तक 9.1 लाख भी चुकाने होंगे PWD को
2 15 गोलियां लगने के बाद भी पाक सैनिकों पर फेंका ग्रेनेड, उड़ा दिए थे चिथड़े, जानिए कौन हैं कारगिल के हीरो परमवीर योगेंद्र
3 मॉब लिंचिंग पर पीएम को 49 हस्तियों की चिट्ठी को टीएमसी सांसद नुसरत जहां का समर्थन, बोलीं- खून खराबा बंद हो
यह पढ़ा क्या?
X