ताज़ा खबर
 

मुलायम सिंह बोले- पैसा बनाने में लगे अखिलेश के आधे मंत्री, डकैत भी अच्‍छा काम करते हैं

मुलायम सिंह यादव ने कहा, 'मान सिंह नाम का एक डाकू था, जो कि गरीबों की मदद करता था, लेकिन पैसे वालों ने उसे जेल भिजवा दिया।'

SAMAJWADI PARTY, Mulayam Singh Yadav, Akhilesh government, Akhilesh ministers, minting money, SP office Karpoori Thakur's birth anniversary, समाजवादी पार्टी, सपा सुप्रीमो, मुलायम सिंह यादव, कर्पूरी ठाकुर, अखिलेश के मंत्री, मंत्री पैसा, latest UP newsमुलायम सिंह यादव ने रविवार को पार्टी को नेताओं को नसीहत दी कि पैसा कमाना है तो वे बिजनेस करें।

समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने एक बार फिर अपने बेटे और उत्‍तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव की सार्वजनिक तौर पर क्‍लास लगाई है। रविवार को समाजवादी नेता कर्पूरी ठाकुर की पुण्‍यतिथि के मौके पर मुलायम सिंह ने कहा, ‘अखिलेश के आधे मंत्री पैसा कमाने में लबे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मंत्रियों को मेरी सलाह है। अगर पैसा कमाना ही आपकी प्राथमिकता है तो फिर आप बिजनेस करो।’

मुलायम ने कहा, ‘माता प्रसाद पांडे यहां (विधानसभा स्‍पीकर) बैठे हैं। ये चादर फैलाकर पैसा जुटाने के लिए जाते थे और लोग लाखों रुपए दिया करते थे। मैं भी इसी प्रकार से पैसा जुटाया और लोग इतना देते थे कि गिनने में चार दिन लग जाते थे।’ सपा सुप्रीमो ने कहा कि उन पर भी कई प्रकार के आरोप लगाए गए। कई बार यहां तक कहा गया कि मुलायम सिंह के डकैतों से संबंध हैं। किसी ने छविराम गैंग के साथ नाम जोड़ा तो किसी ने माधो सिंह और फूलन गैंग के साथ रिश्‍ता बताया। लेकिन डाकू भी कभी-कभी अच्‍छा काम करते थे।

मुलायम ने कहा, ‘मान सिंह नाम का एक डाकू था, जो कि गरीबों की मदद करता था, लेकिन पैसे वालों ने उसे जेल भिजवा दिया। बाद में उनका बेटा तहसीलदार सिंह मेरे सामने चुनाव लड़ा। मेरे सामने कई और गुंडो ने भी चुनाव लड़ा, लेकिन जनता बड़ी समझदार है, उसने उन सभी को हराया।’

Read Also: मुलायम सिंह यादव ने अयोध्‍या में कारसेवकों पर गोली चलवाने के फैसले पर 25 साल बाद जताया अफसोस

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब रसोई गैस बुकिंग के वक्‍त ही करा सकेंगे ऑनलाइन पेमेंट
2 मुलायम सिंह यादव ने अयोध्‍या में कारसेवकों पर गोली चलवाने के फैसले पर 25 साल बाद जताया अफसोस
3 छोटे भाई को सक्रिय राजनीति में लाना चाहती हैं महबूबा मुफ्ती
ये पढ़ा क्या?
X