ताज़ा खबर
 

गुजरात के बीजेपी विधायक की सैलरी रुकी, बैठकों में जाने पर भी बैन, अयोग्‍य करार देने पर अड़ा विपक्ष

गुजरात हाई कोर्ट ने 12 मई को द्वारक से बीजेपी विधायक के चुनावी नामांकन में गड़बड़ियां पाई थीं और उनका निर्वाचन खारिज कर दिया था।

बीजेपी विधायक पबुभा माणेक। (फोटो सोर्स: Pabubha Manek/Twitter)

गुजरात में कांग्रेस नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार (8 मई 2019) को विधानसभा स्पीकर से बीजेपी विधायक पबुभा माणेक को अयोग्य करार देने की मांग की। नेता विपक्ष परेश धानाणी और गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल में 15 विधायक शामिल थे। विपक्ष ने आरोप लगाया कि विधानसभा स्पीकर रांजेंद्र त्रिवेदी पक्षपातपूर्ण रवैया अपना रहे हैं।

कांग्रेस ने कहा कि अवैध खनन मामले में जब कांग्रेस के दो विधायक का नाम आया था तो उन्हें तुरंत अयोग्य घोषित कर दिया गया लेकिन अब बीजेपी विधायक पर इस तरह की कार्रवाई की जरूरत है तो स्पीकर ने अपने पैर पीछे खींच लिए हैं। कांग्रेस ने कहा कि उनके विधायक भगाभाई बारड को जब 2 साल की सजा सुनाई गई तो स्पीकर ने उन्हें तुरंत अयोग्य करार दिया था।

बता दें कि कोर्ट ने 12 मई को द्वारक से बीजेपी विधायक के चुनावी नामांकन में गड़बड़ियां पाई थीं और उनका निर्वाचन खारिज कर दिया था। जिसके बाद कांग्रेस लगातार उन्हें अयोग्य करार देने के लिए अड़ी हुई है। विधानसभा स्पीकर ने इस मामले में सरकार का पक्ष जानने तथा कानूनी राय लेने के लिए बुधवार को कानून व संसदीय मामलों के राज्ये मंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा से चर्चा की। स्पीकर के मुताबिक फिलहाल बीजेपी विधायक की सैलरी रोक दी गई है और उनके बैठकों में जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

यही नहीं कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके विधायक अल्पेश ठाकोर की सदस्यता रद्द करने के लिए भी कांग्रेस ने स्पीकर से मांग की है। कांग्रेस ने अल्पेश पर जनप्रतिनिधि कानून के उल्लंघन का आरोप लगाया है। यह मांग ऐसे वक्त पर की गई है जब अल्पेश की बीजेपी से नजदीकियां लगातार बढ़ती जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X