ताज़ा खबर
 

हिरासत में हार्दिक, बंद हुआ इंटरनेट, नहीं निकली एकता रैली

देश भर में पटेलों के आरक्षण की मांग कर रहे हार्दिक पटेल को पाटीदारों के 'एकता मार्च' से पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है।

Author अहमदाबाद | September 19, 2015 1:30 PM
एकता मार्च की रैली शुरू होने से पहले ही हिरासत में हार्दिक पटेल

देश भर में पटेलों के आरक्षण की मांग कर रहे हार्दिक पटेल को पाटीदारों के ‘एकता मार्च’ से पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया है। सिर्फ हार्दिक को ही नहीं बल्कि उसके साथ आरक्षण की मांग को लेकर 35 प्रदर्शनकारियों को भी हिरासत में लिया गया है।

फिलहाल इन सभी को वर्चा पुलिस स्टेशन ले जाया गया है। हार्दिक के हिरासत में लिए जाने के बाद उनके समर्थकों का कहना है कि हर हाल में यात्रा निकाली जाएगी।

आपको बता दें कि आज से पाटीदारों का एकता मार्च शुरू होना था। गुजरात में पटेलों के आरक्षण की मांग के लिए हार्दिक पटेल की अगुवाई में दांडी से अहमदाबाद के लिए मार्च निकाले जाने की बात कही गई थी। हार्दिक पटेल गुजरात में ओबीसी वर्ग में पटेलों के लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं।

सूरत के पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने यह जानकारी देते हुए बताया कि शांति भंग होने की आशंका को टालने के लिए यह कदम उठाया गया है. हार्दिक को केवल एहतियाती हिरासत में लिया गया है उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है. समझा जाता है कि हार्दिक के साथ पकड़े गये लोगों में पास के सूरत कन्वीनर अल्पेश कथिरिया और उनके करीबी दिनेश पटेल और चिराग पटेल भी शामिल हैं.

हिरासत में लिए जाने के बाद हार्दिक ने गुजरात सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात पुलिस हिंसा चाहती है। गौरतलब है कि दो बार की नामंजूरी के बाद नवसारी जिला प्रशासन ने कल एक नये नाम एकता यात्रा के साथ प्रस्तावित करीब 350 किमी लंबी इस यात्रा को अनुमति देने से कल एक बार फिर इंकार कर दिया था, जबकि संगठन ने हर हाल में इसे निकालने का अल्टीमेटम दिया है।

नवसारी की जिला कलेक्टर रम्या मोहन ने कहा कि पास की एकता यात्रा तथा इसके विरोध में दांडी के आसपास के 90 गांवों और ओबीसी एकता मंच की प्रतिकार रैली को भी मंजूरी नहीं दी गयी है। बिना अनुमति के इस तरह की यात्रा निकाली जाएगी तो ऐसा करने वालों को गिरफ्तार किया जाएगा।

हालांकि गणेश चतुर्थी के मद्देनजर पूर्व में इस धारा 144 के तहत लगायी गयी निषेधाज्ञा हटा ली गयी है। पर वहां सुरक्षा में कोई कमी नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि फिलहाल मोबाइल इंटरनेट पर प्रतिबंध के संबंध में भी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। उन्होने बताया कि दो हिंसा तथा टकराव की आशंका के मद्देनजर दोनो रैलियों को मंजूरी नहीं दी गयी है।

मालूम हो कि पटेल समुदाय को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में शामिल करने की मांग कर रहे पास की गत 25 अगस्त की अहमदाबाद की रैली के बाद हार्दिक की गिरफ्तारी के कुछ ही समय के भीतर राज्यव्यापी हिंसा फैल गयी थी। दो दिनों की हिंसा के दौरान दस लोग मारे गये थे और 200 से अधिक वाहन जला दिये गये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App