ताज़ा खबर
 

गुजरात चुनाव 2017: राहुल गांधी बोले- पीएम मोदी ने मेरी सबसे ज्‍यादा मदद की, उनसे नफरत नहीं करता

राहुल गांधी ने इस सवाल को सिरे से दरकिनार कर दिया कि यदि कांग्रेस खराब प्रदर्शन करती है तो इसे उन पर जनमत संग्रह माना जाएगा।

Author अहमदाबाद | December 13, 2017 6:11 PM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। (फाइल फोटो)

कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी सबसे ज्यादा मदद की है और वह उनसे नफरत नहीं करते। गुजराती समाचार चैनल जीएसटीवी को दिए साक्षात्कार में राहुल गांधी ने कहा, “मोदी जी ने मेरी सबसे ज्यादा मदद की है.. मैं उनसे कैसे नफरत कर सकता हूं।” प्रधानमंत्री द्वारा नेहरू-गांधी परिवार के खिलाफ की टिप्पणियों के बारे में पूछे जाने पर राहुल ने कहा, “यदि आप धर्म और देश के इतिहास को देखें तो पाएंगे कि हमेशा नफरत का जवाब प्यार से ही दिया गया है। मुझमें क्रोध और घृणा की भावनाएं बिल्कुल भी नहीं है।” उन्होंने कहा, “यह हमारे परिवार का स्वभाव है। शायद राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से ही हमारे परिवार को यह सीख मिली है।”

इसके अलावा राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि गुजरात चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए चौंकाने वाले होंगे। क्या कांग्रेस की गुजरात में हार उन पर जनमत संग्रह माना जाएगा? राहुल गांधी ने इसका सवाल को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि चुनाव परिणाम भाजपा के लिए चौंकाने वाला होगा। राहुल ने सीएनएन न्यूज 18 से कहा, “गुजरात से इस बार आश्चर्यजनक परिणाम आएंगे। यह भाजपा के लिए चौंकाने वाला होगा। वे डरे हुए हैं। भाजपा कार्यकर्ता जो हमारे नेताओं से बात करते हैं, कह रहे हैं कि कांग्रेस ने प्रभावी रूप से प्रचार किया है और उनका प्रचार अभियान उतना प्रभावी नहीं रहा है। यहां तक कि वे मानते हैं कि वे अपने रिकॉर्ड को बचाने में समर्थ नहीं रहे हैं।”

उन्होंने इस सवाल को सिरे से दरकिनार कर दिया कि यदि कांग्रेस खराब प्रदर्शन करती है तो इसे उन पर जनमत संग्रह माना जाएगा। राहुल कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बन गए हैं और वह भाजपा शासित राज्य में स्टार प्रचारक रहे हैं। राहुल ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर हमले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी मांगने की मांग की। प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा को गुजरात में हराने के लिए मनमोहन सिंह पर पाकिस्तानी राजनयिकों के साथ बैठक करने का आरोप लगाया था। राहुल ने कहा, “यह गलत है। यदि मोदीजी प्रधानमंत्री हैं तो मनमोहन सिंहजी भी प्रधानमंत्री थे। उन्होंने अपना जीवन देश को समर्पित किया। यह अस्वीकार्य है। स्पष्ट तौर पर मोदी को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने जो भी कहा वह गलत है।”

राहुल ने कहा कि वह प्रधानमंत्री पर निजी हमलों में शामिल नहीं हुए हुए, हालांकि प्रधानमंत्री व भाजपा ऐसा रोज करते रहे। उन्होंने कहा, “भाजपा और मोदीजी मेरे खिलाफ आक्रामक हमले करते रहे। लेकिन मैंने इसका जवाब नहीं दिया, क्योंकि मैं इस पर ध्यान नहीं देता।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया। वह प्रधानमंत्री व कांग्रेस के लिए अस्वीकार्य है। इस पर पूर्व सांसद के खिलाफ निलंबन की तुरंत कार्रवाई की गई। राहुल गांधी ने मोदी पर हमला करते हुए कहा, “वह अपनी विश्वसनीयता खो चुके हैं। वह इसे फिर से हासिल कर सकेंगे, ऐसा मुश्किल दिख रहा है।”

राहुल ने कहा, “युवाओं ने मोदीजी में विश्वास जताया था। लेकिन उन्होंने विश्वास तोड़ दिया। उन्होंने हर साल दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था। लेकिन वे अब उसके बारे में बात नहीं करते। वह भ्रष्टाचार के बारे में भी एक शब्द नहीं बोलते।” राहुल ने कहा, “आप ने देखा होगा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह व फ्रांस से राफेल सौदे की खबरों के सामने आने के बाद उन्होंने एक शब्द नहीं बोला।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App