ताज़ा खबर
 

‘टॉपर मोदी को ज्ञान दे रही हर परीक्षा में फेल कांग्रेस’, CAA पर विरोध को लेकर भड़के गुजरात के डिप्टी CM

Gujarat: डिप्टी सीएम ने कहा, “जो 70 वर्षों तक धारा 370 नहीं हटा पाए, न ही यह बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सताए धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता दे पाए, आज वो लोग पीएम नरेंद्र मोदी को सलाह दे रहे हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए?

nitin patelगुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन को लेकर विपक्ष, विशेषकर कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पार्टी 70 साल से संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द करने में विफल रही है, दूसरे देश में सताए अल्पसंख्यकों को अप्नवे यहां नागरिकता देने के लिए सीएए को भी नहीं ला पाई और अब पीएम नरेंद्र मोदी को सलाह दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष CAA पर पीएम को ‘ज्ञान’ ना दे।

कांग्रेस पर यूं कसा तंज: नितिन पटेल ने कांग्रेस की तुलना एक ऐसे छात्र से की, जो परीक्षाओं में असफल रहता है, फिर भी टॉपर को रैंक में सुधार के लिए सुझाव देता है। उपमुख्यमंत्री ने कहा, “मैं अक्सर इसका उदाहरण देता हूं। कांग्रेस उस छात्र की तरह है जो परीक्षाओं में खुद तो फेल हो जाता है या फिर तीन-चार अटेम्प्ट में पास करता है, लेकिन फिर भी टॉपर को अधिक स्कोर करने के लिए टिप्स देता रहता है।”

Hindi News Live Hindi Samachar 25 January 2020: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

नितिन पटेल का बयान: उन्होंने कहा, “जो 70 वर्षों तक धारा 370 नहीं हटा पाए, न ही यह बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सताए धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता दे पाए, आज वो लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह दे रहे हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए? इसके बाद पटेल ने कहा कि मेरे विचार में, CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों से विचलित होने का कोई कारण नहीं है। इस गणतंत्र दिवस पर, हम देशभक्तों का समर्थन जारी रखने का संकल्प लें।

क्या है पूरा मामला: पिछले साल 5 अगस्त को एनडीए सरकार ने धारा 370 को रद्द कर दिया था, जिसने जम्मू और कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा दिया था। इसने राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया। केंद्र ने संविधान के अनुच्छेद 35-ए को भी निरस्त कर दिया था, जिसने जम्मू और कश्मीर की विधानसभा को उस राज्य के स्थायी निवासियों को तय करने और उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ देने की शक्ति दी थी। वहीं सीएए को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पटना के वूमंस कॉलेज में बुर्का पहन के आने पर पाबंदी, नियम तोड़ने पर लगेगा 250 रुपये जुर्माना
2 ‘मुस्लिम लीग से पहले सावरकर ने की थी दो राष्ट्रों की वकालत, बंटवारे की जिम्मेदार नहीं कांग्रेस’, शशि थरूर का तीखा हमला
3 दिल्ली चुनाव: 25 साल में सबसे कम उम्मीदवार, BJP ने दिए सबसे कम महिलाओं को टिकट
ये पढ़ा क्या?
X