ताज़ा खबर
 

गुजरातः कांग्रेस को बड़ा झटका, अल्पेश ठाकोर समेत दो विधायकों का इस्तीफा

ठाकोर ने विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद कहा, "मैंने अपना वोट ईमानदार राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया है, जो देश को एक नए मुकाम पर ले जाना चाहते हैं। मैंने अपनी अंतरात्मा के अनुसार वोट दिया है।"

Author नई दिल्ली | July 5, 2019 5:45 PM
इन दोनों ही नेताओं ने इस्तीफे के पीछे अपमान होने की बात कही है। (फाइल फोटो)

कांग्रेस को गुजरात में शुक्रवार (पांच जुलाई, 2019) को बड़ा झटका लगा है। अल्पेश ठाकोर और धवल सिंह जाला ने राज्यसभा उपचुनाव में पार्टी उम्मीदवारों के खिलाफ मतदान के बाद गुजरात विधानसभा से इस्तीफा दे दिया।

दरअसल, गांधीनगर स्थित विधानसभा परिसर में सुबह गुजरात की दो राज्यसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए वोटिंग हुई थी। बीजेपी ने विदेश मंत्री एस.जयशंकर और ओबीसी नेता जुगल जी ठाकोर को मैदान में उतारा है, जबकि कांग्रेस की ओर से चंद्रिका चुडास्मा और गौरव पांड्या उम्मीदवार बनाए गए हैं।

ठाकोर ने विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद कहा, “मैंने अपना वोट ईमानदार राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया है, जो देश को एक नए मुकाम पर ले जाना चाहते हैं। मैंने अपनी अंतरात्मा के अनुसार वोट दिया है।” ओबीसी नेता के मुताबिक, “कांग्रेस में मुझे मानसिक तनाव के अलावा कुछ नहीं मिला। मैं अब उस बोझ से मुक्त हूं।”

‘एएनआई’ से उन्होंने कहा, “मैंने राहुल गांधी पर यकीन के बाद कांग्रेस ज्वॉइन की थी, पर बदकिस्मती से उन्होंने हमारे लिए कुछ नहीं किया। बार-बार हमारी बेइज्जती की गई। ऐसे में मैंने कांग्रेसी विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।”

वहीं, जाला बोले- कांग्रेस के लोग बार-बार हमारा अपमान कर रहे थे। वे पार्टी के छोटे नेताओं की सुन ही नहीं रहे थे। इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए मैंने कांग्रेसी विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।

सूबे में राज्यसभा की दो सीटों पर उपचुनाव के लिए शुक्रवार को विधानसभा भवन में सबसे पहले मतदान करने वालों में राज्य के मंत्री सौरभ पटेल, प्रदीप सिंह जडेजा और भाजपा विधायक अरुण सिंह राणा शामिल रहे।

बता दें कि इसी साल मई में क्रमश: गांधीनगर और अमेठी निर्वाचन क्षेत्रों से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद केंद्रीय मंत्रियों अमित शाह और स्मृति ईरानी के इस्तीफा देने के कारण गुजरात से राज्यसभा की दो सीटों के लिए उपचुनाव कराए जाने की जरूरत पड़ी।

182 सदस्यीय विधानसभा में अपनी संख्या बल के कारण भाजपा दोनों सीटों पर जीतने में सक्षम है। चुनाव आयोग (ईसी) की अधिसूचना के अनुसार यहां अलग-अलग मतदान हुआ। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App