ताज़ा खबर
 

बिहार में हार, पटेल आंदोलन से डरी BJP ने गुजरात में उतारे रिकॉर्ड 500 मुस्लिम उम्‍मीदवार

पाटीदार आरक्षण आंदोलन की वजह से मुख्‍यमंत्री आनंदी बेन पटेल को डर है कि कहीं उनकी पार्टी का वोटबैंक खिसक न जाए। यही कारण है कि इस बार टिकट देते वक्‍त सिर्फ और सिर्फ एक फैक्‍टर को ध्‍यान में रखा गया है, और वो है- विनिबिलिटी।

Gujarat civic polls, gujarat local body elections, anandiben patel, BJP woos Muslims, BJP, communal sentiments, Amit Shah, Pakistan, BJP loses in Bihar, bihar polls, bihar election 2015, Hindutva laboratory, saffron party, Muslim candidates, local body polls, gujarat bjp, gujarat municipal corporation election, hardik patel, hardik patel news, गुजरात निकाय चुनाव, मुस्लिम कैंडिडेट, मुस्लिम उम्‍मीदवार, 500 मुस्लिम कैंडिडेट, बिहार में हार, बीजेपी की हार, अमित शाह, आनंदी बेन पटेल, नरेंद्र मोदी, गुजरात निगम चुनाव, गुजरात लोकल बॉडी इलेक्‍शन, हिंदू लेबोरेट्री, गुजरात चुनाव, पाटीदार आरक्षण आंदोलन, आनंदी बेन पटेल

गुजरात बीजेपी ने इस बार लोकल बॉडी इलेक्‍शन में रिकॉर्ड 500 मुस्लिम उम्‍मीदवार उतारे हैं। यह पिछली बार की तुलना में 40 फीसदी अधिक है। नरेंद्र मोदी के जमाने में हिंदुत्‍व की लेबेरेट्री के तौर पर पहचान बना चुके गुजरात में 2010 में पहली बार मोदी ने 300 मुस्लिम उम्‍मीदवारों को लोकल बॉडी इलेक्‍शन में टिकट दिया था। उनका यह प्रयोग सफल भी रहा था। 300 में से करीब 250 कैंडिडेट्स जीते थे। जानकार मानते हैं कि बिहार में हुई हार और गुजरात में पाटीदारों के विरोध के चलते भाजपा ने इस बार 500 मुस्लिम उम्‍मीदवारों पर दांव खेला है। पार्टी ने सारा समीकरण दरकिनार कर केवल जीत की संभावना को देखते हुए उम्‍मीदवार चुना है।

पार्टी के सूत्र बताते हैं कि पाटीदार आरक्षण आंदोलन की वजह से मुख्‍यमंत्री आनंदी बेन पटेल को डर है कि कहीं उनकी पार्टी का वोटबैंक खिसक न जाए। पाटीदारों के नेता हार्दिक पटेल ने करीब दस लाख लोगों की रैली कर ली थी। पाटीदार इस चुनाव में भी काफी सक्रिय हो गए हैं। वे खुल कर भाजपा का विरोध कर रहे हैं। यहां तक कह रहे हैं कि खूंखार अपराधी को चुन लो, पर भाजपा को वोट मत दो। ऐसे में भाजपा को मुस्लिम उम्‍मीदवारों से बड़ा भरोसा है। बीजेपी ने वेरावल-सोमनाथ से 10 मुस्लिम उम्‍मीदवारों को टिकट दिया है। यह वही जगह है, जहां से बीजेपी के सबसे वरिष्‍ठ नेता लालकृष्‍ण आडवाणी ने 1990 में अयोध्‍या के लिए ‘रथयात्रा’ की शुरुआत की थी।

इतनी बड़ी संख्‍या में मुस्लिम कैंडिडेट उतारने से बीजेपी काडर नाराज है, लेकिन पार्टी लीडरशिप कोई जोखिम नहीं उठाना चाहती है। नरेंद्र मोदी के बाद गुजरात का मुख्‍यमंत्री पद संभालने वाली आनंदी बेन पटेल के लिए पहली बड़ी चुनौती है। यही कारण है कि पार्टी उसी उम्‍मीदवार को टिकट दे रही है, जिसकी जीत की संभावना 100 प्रतिशत हो। इसी रणनीति के चलते पहली बार, बीजेपी ने अहमदाबाद में 4, जाम नगर में 6 और राजकोट में 2 मुस्लिम कैंडिडेट उतारे हैं। भाजपा के उम्‍मीद है कि 500 में से 350-400 मुस्लिम उम्‍मीदवार जीतेंगे। बता दें कि गुजरात में 22 नवंबर को 56 नगर निगमों, 31 जिला पंचायतों और 230 तालुका पंचायतों के चुनाव होने हैं।

READ ALSO: 

यूपी पंचायत चुनाव: मुस्लिम से शादी करने वाली कई हिंदू महिलाओं को लोगों ने जिताया

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी पंचायत चुनाव: मुस्लिम से शादी करने वाली हिंदू महिलाओं को लोगों ने जिताया
2 चित्रकूट में बोले अमित शाहः 60 साल होते ही नेताओं को राजनीति छोड़ समाजसेवा करनी चाहिए
3 J&K: फेल होने पर आत्‍महत्‍या करने वाला अदनान, कॉपी री-चेक होने पर टॉपर निकला
यह पढ़ा क्या?
X