मिग-21 से पाक के F-16 को मार गिराने वाले वीर अभिनन्दन वर्धमान को वीर चक्र, खूंखार आतंकी को मार गिराने वाले सोमबीर को मरणोपरांत शौर्य चक्र, देखिए पूरी लिस्ट

बता दें कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के समय अभिनंदन वायुसेना में विंग कमांडर थे लेकिन अब उन्हें प्रमोट करके ग्रुप कैप्टन बना दिया गया है। उन्होंने 27 फरवरी, 2019 को एक पाकिस्तानी F-16 लड़ाकू विमान को हवाई युद्ध में मार गिराया था।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा अभिनंदन वर्धमान को वीर चक्र से सम्मानित किया गया(फोटो सोर्स: ANI)।

भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर (जोकि अब ग्रुप कैप्टन हैं) अभिनंदन वर्धमान को 22 नवंबर सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा वीर चक्र से सम्मानित किया गया। बता दें कि अभिनंदन वर्धमान ने 27 फरवरी 2019 को अपनी अदम्य साहस का परिचय देते हुए पाकिस्तान की वायु सेना के F-16 लड़ाकू विमान को मिग-21 से हवाई युद्ध में मार गिराया था।

बता दें कि यह अलंकरण समारोह राष्ट्रपति भवन में आयोजित हुआ। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी हिस्सा लिया। इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कुछ वीरों को मरणोपरांत सम्मान दिया। जिसमें जम्मू-कश्मीर में एक ऑपरेशन के दौरान ए ++ श्रेणी के खूंखार आतंकवादियों को मौत के घाट उतारने वाले शहीद नायब सूबेदार सोमबीर को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उनकी पत्नी और मां ने राष्ट्रपति के हाथों ग्रहण किया।

वहीं मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल को भी मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। बता दें कि शहीद मेजर शंकर ढौंडियाल ने पांच आतंकवादियों को मार गिराया था। राष्ट्रपति से उनकी मां ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों को मारने के लिए वीर प्रकाश जाधव को भी मरणोपरांत ‘कीर्ति चक्र’ से सम्मानित किया गया।

वहीं दूसरा सबसे बड़ा शांतिकालीन वीरता पुरस्कार कीर्ति चक्र कोर ऑफ इंजीनियर्स के सैपर प्रकाश जाधव को मरणोपरांत दिया गया। जाधव ने जम्मू-कश्मीर में एक ऑपरेशन के दौरान अपनी जान की परवाह ना करते हुए आतंकवादियों को खदेड़ा था।

इसके अलावा पूर्व पूर्वी सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त), दक्षिणी नौसेना कमांडर वाइस एडमिरल अनिल चावला, इंजीनियर इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह को परम विशिष्ट सेवा पदक प्रदान किया गया। वहीं पूर्वी वायु कमांडर एयर मार्शल दिलीप पटनायक को अति विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया।

वीर चक्र: यह सम्मान युद्ध के समय दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च सम्मान है। इसे सैनिकों द्वारा दिखाई गई असाधारण वीरता और उनके बलिदान के लिए दिया जाता है। इसे मरणोपरान्त भी दिया जाता है। सिल्वर के बने इस मेडल के साथ नीला और नारंगी रंग के फीते को दिया जाता है।

कीर्ति चक्र: सैनिकों की वीरता के लिए दिया जाने वाला ‘कीर्ति चक्र’ में मेडल चांदी का बना होता है और यह गोलाकार होता है। इसका फीता हरे रंग का होता है जिस पर नारंगी रंग की दो सीधी रेखाएं बनी होती हैं।

शौर्य चक्र: ‘शौर्य चक्र’ की मरणोपरान्त भी दिया जा सकता है। वीरता के लिए दिए जाने वाले यह सम्मान वरियता में ‘कीर्ति चक्र’ के बाद आता है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट