ताज़ा खबर
 

वैक्सीन के टोटे के बीच केंद्र ने बदले नियम, अब कोविशील्ड की दो डोज के बीच 12-16 सप्ताह का अंतर, संक्रमितों को ठीक होने के छह माह बाद ही वैक्सीन

दरअसल, नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन अम्युनाइजेशन (NTAGI) ने अपनी रिपोर्ट में सरकार से इस आशय की सिपारिशें की थीं। सरकार पहले से वैक्सीन की कमी से जूझ रही है। उसने बगैर देर किए सारी सिफारिशों को ओके कर दिया।

जम्मू के एक अस्पताल में कोरोना वैक्सीन लगवाती युवती।

मोदी सरकार के पास इस बात का कोई जवाब नहीं है कि वैक्सीन के बगैर टीका उत्सव कैसे मनाएं। न तो इस बात का जवाब है कि कोरोना के कहर को वैक्सीन की कमी के बीच कैसे काबू किया जाएगा, लेकिन गुरुवार को सरकार ने वैक्सिनेशन को लेकर नए नियम गढ़ दिए। अब अब कोविशील्ड की दो डोज के बीच 12-16 सप्ताह का अंतर होगा। एक्सपर्ट की राय सरकार ने मान ली है।

दरअसल, नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन अम्युनाइजेशन (NTAGI) ने अपनी रिपोर्ट में सरकार से इस आशय की सिपारिशें की थीं। सरकार पहले से वैक्सीन की कमी से जूझ रही है। उसने बगैर देर किए सारी सिफारिशों को ओके कर दिया। नए नियमों में कहा गया है कि जो व्यक्ति कोरोना को मात दे चुका है, उसे छह माह तक वैक्सीन की कोई जरूरत नहीं है। ध्यान रहे कि पहले कोविशील्ड की दो डोज के बीच 8 सप्ताह का अंतर था। खास बात है कि कोवैक्सीन के मामले में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

एक्सपर्ट मानते हैं कि कोरोना संक्रमनित होने के बाद शरीर में एंटीबॉ़डीज बन जाती हैं। जो कोरोना से लड़ने में मददगार होती हैं। लिहाजा ऐसे लोगों को छह माह तक वैक्सीन देने की जरूरत नहीं। सूत्रों का कहना है कि सरकार अपनी नाकामी को छिपाने के लिए तमाम नए नियम गढ़वा रही है। उसे पता है कि वैक्सीन का टोटा दूर करना उसके बस का रोग नहीं तो नए फऱमान ही जारी कर दो।

नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल का कहना है कि NTAGI ने वैज्ञानिक आधार पर फैसला लिया है। इसमें सरकार का कोई दखल नहीं है। ब्रिटेन के साथ डब्ल्यूएचओ ने भी इसी तरह के फैसले की हिमायत की थी। उन्होंने वैज्ञानिक तर्कों के आधार पर फैसला लिया। गौरतलब है कि गर्भवती महिलाओं के मामले में संस्था ने कहा है कि वैक्सीन लेने न लेने का फैसला उन पर ही छोड़ना बेहतर रहेगा। हां, प्रसव के बाद वो कभी भी वैक्सीन लगवा सकती हैं।

वैक्सीन के टोटे को लेकर कई सूबे केंद्र के सामने अपना विरोध व्यक्त कर चुके हैं। मोदी सरकार ने राज्यों को सीधे वैक्सीन खरीद की छूट दी है। इसे लेकर सूबों का आरोप है कि इससे बाजार में क्या छवि बनेगी। राज्य टीके के लिए आपस में गुत्थनगुत्था होंगे। राष्ट्रवादी सरकार के लिए क्या ये शर्म की बात नहीं है। सुप्रीम कोर्ट लगातार सरकार से वैक्सीन के दामों पर सवाल उठा रहा है। सरकार के वकील कोर्ट को लगातार बता रहे हैं कि सब कुछ ठीक है। कोर्ट के दखल की तो कहीं से कोई गुजाइश ही नहीं है। यानि पूरी दाल ही काली है।

Next Stories
1 फ्रेंच अंबेसी के मॉडर्ना वैक्सीन खरीदने पर महाराष्ट्र के मंत्री ने उठाए सवाल, कहा- मोदी सरकार क्यों लोगों को मारने पर तुली
2 दिल्ली, यूपी, हरियाणा की सरकारों को SC का निर्देश, कहा- एनसीआर के प्रवासी मजदूरों को दें सूखा राशन, खोलें कम्युनिटी किचन
3 नरेंद्र मोदी जानते हैं रोज मर रहे कम से कम 10 हजार लोग, बोले ओवैसी, कहा- ऐसा लगता है अभी बने हैं पीएम
ये पढ़ा क्या?
X