governor rule in jammu kashmir ips officer k vijay kumar & bb vyas will advisor of nn vohara - जिसIPS ने मारा था चंदन तस्कर वीरप्पन को, उन्हें मोदी सरकार ने घाटी भेजा आतंकियों पर नकेल कसने - Jansatta
ताज़ा खबर
 

जिस IPS ने मारा था चंदन तस्कर वीरप्पन को, उन्हें मोदी सरकार ने घाटी भेजा आतंकियों पर नकेल कसने

65 साल के विजय कुमार उस वक्त सबसे ज्यादा चर्चे में रहे जब वो स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसटीएफ में तैनात थे। साल 2004 में चंदन तस्कर वीरप्पन को घेर कर उसे उसके अंजाम तक पहुंचाने वालों में के विजय कुमार का नाम शुमार है।

Author नई दिल्ली | June 22, 2018 10:50 AM
IPS अधिकारी के. विजय कुमार फोटो सोर्स – फेसबुक

जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लग चुका है और अब केंद्र सरकार की अगली रणनीति हैं यहां आतंकवादियों पर नकेल कसना। इसी के तहत केंद्र सरकार ने राज्यपाल एनएन वोहरा के दो अहम सलाहकार नियुक्त किये हैं। राज्यपाल एनएन वोहरा के दो नये सहाकार होंगे बीबी व्यास और के. विजय कुमार।

कौन हैं के. विजय कुमार? विजय कुमार तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। 1998-2001 के बीच वो कश्मीर वैली में बीएसएफ के इंस्पेक्टर जनरल थे। उस वक्त सीमा सुरक्षा बल ने आतंकवादियों के खिलाफ जमकर कार्रवाई भी की थी। 65 साल के विजय कुमार उस वक्त सबसे ज्यादा चर्चे में रहे जब वो स्पेशल टास्क फोर्स यानी एसटीएफ में तैनात थे। साल 2004 में चंदन तस्कर वीरप्पन को घेर कर उसे उसके अंजाम तक पहुंचाने वालों में के विजय कुमार का नाम शुमार है। 2010 में जब नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ के 75 जवानों की हत्या कर दी, तब नक्सलियों पर नकेल कसने के लिए के विजय कुमार को सीआरपीएफ का डायरेक्टर जनरल बनाया गया था। तो साफ है कि नक्सलियों के बाद अब बारी आतंकवादियों की है।

कौन हैं बीबी व्यास? 60 साल के आईएएस अधिकारी बीबी व्यास को गवर्नर एनएन वोहरा का भरोसेमंद माना जाता है। बीबी व्यास जब राज्य के मुख्य सचिव थे तब 31 मई 2018 को उन्हें सेवाकाल में एक साल का एक्सटेंशन भी दिया गया है। बीबी व्यास की गिनती एक तेज तर्रार आईएएस अधिकारी के तौर पर होती है।

बीवीआर सुब्रमण्यम बने मुख्य सचिव: एक खास रणनीति के तहत छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस अधिकारी बीवीआर सुब्रमण्यम को बीबी व्यास की जगह नया मुख्य सचिव बनाया गया है। सुब्रमण्यम इससे पहले छत्तीसगढ़ के गृह सचिव के पद पर तैनात थे। सुब्रमण्यम की पहचान आतंरिक सुरक्षा जैसे गंभीर विषय के विशेषज्ञ के तौर पर है। सुब्रमण्यम पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के निजी सचिव भी रह चुके हैं। सुब्रमण्यम वर्ल्ड बैंक के साथ भी काम कर चुके हैं। साल 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद सुब्रमण्यम पीएमओ कार्यालय में थे। हालांकि उसके बाद वो छत्तीसगढ़ कैडर में वापस चले गए थे।

नियुक्तियों से संबंधित एक कैबिनेट कमेटी की बैठक बुधवार (20 मई) को हुई। इस बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। कैबिनेट की इस बैठक में बैच के छत्तीसगढ़ कैडर के 1987 बैच के आईएएएस अधिकारी सुब्रमण्यम को जम्मू-कश्मीर का नया मुख्य सचिव बनाने पर मुहर लगी।

इस बैठक में घाटी में आतंकियों पर नकेल कसने के लिए बीबी व्यास और एंटी नक्सल एक्सपर्ट के विजय कुमार को गवर्नर का सलाहकार बनाने पर मुहर लगाई गई। गवर्नर के नए सलाहकारों के नाम का ऐलान केंद्र सरकार ने उस वक्त किया है जब जम्मू-कश्मीर में गवर्नर शासन लगाया गया। इससे पहले मंगलवार को बीजेपी ने पीडीपी की महबूबा सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया जिसके बाद यहां विधानसभा भंग कर दी गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App