ताज़ा खबर
 

हरियाणा-पंजाब में जल बंटवारे पर ‘भंवर’ में फंसे राज्यपाल

रावी-ब्यास नदी के जल में अपना वैध हिस्सा हासिल करने के मुद्दे पर हरियाणा और पंजाब के बीच पांच दशक से रस्साकशी चल रही है।

Author चंडीगढ़ | March 14, 2016 11:59 PM
हरियाणा-पंजाब के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी। (फाइल फोटो)

राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने सोमवार को कहा कि हरियाणा सरकार रावी-ब्यास नदी के जल में अपना वैध हिस्सा हासिल करने और सतलुज-यमुना लिंक नहर को पूरा करने को लेकर प्रतिबद्ध है। इस मुद्दे पर हरियाणा और पंजाब के बीच पांच दशक से रस्साकशी चल रही है।पंजाब विधानसभा में उनके अभिभाषण के एक हफ्ते बाद हरियाणा विधानसभा में उनके संबोधन के दौरान यह मुद्दा सामने आया। पंजाब विधानसभा में उन्होंने कहा था कि नदियों के पानी के बारे में पंजाब के अधिकारों की ‘रक्षा की जाएगी।’ परम्परा के मुताबिक राज्यपाल राज्य सरकार की तरफ से तैयार किए गए भाषण को पढ़ता है। सोलंकी पंजाब और हरियाणा दोनों के प्रभारी हैं इसलिए ऐसी विचित्र स्थिति पैदा हो गई।

पंजाब विधानसभा में अपने संबोधन में उन्होंने केंद्र से अपील की कि पड़ोसी राज्यों के बीच जल बंटवारे, पंजाबी बोले जाने वाले इलाकों और सीमावर्ती राज्य को ‘न्याय’ देने के तहत चंडीगढ़ का हस्तांतरण जैसे ‘भेदभाव’ को खत्म किया जाए। जिस समय वह हरियाणा विधानसभा को संबोधित कर रहे थे उस समय परिसर के बगल वाले हॉल में प्रकाश सिंह बादल नीत शिअद-भाजपा की सरकार ने पंजाब विधानसभा में पंजाब में एसवाइएल नहर बनाने के लिए अधिग्रहित भूमि की अधिसूचना को समाप्त कर दिया। प्रस्तावित पहल की हरियाणा ने आलोचना की है।

HOT DEALS
  • Panasonic Eluga A3 Pro 32 GB (Grey)
    ₹ 9799 MRP ₹ 12990 -25%
    ₹490 Cashback
  • jivi energy E12 8GB (black)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹280 Cashback

हरियाणा विधानसभा में बजट सत्र के पहले दिन राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में कहा, ‘प्रेसिडेंशियल रेफरेंस पर जल्द सुनवाई के लिए सरकार की तरफ से किए गए ठोस प्रयास का फल मिलना शुरू हो गया है और जो मामला 11 वर्षों से लंबित है उसे सुप्रीम कोर्ट ने नियमित सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है।’

सोलंकी ने कहा, ‘भाखड़ा कमान से पश्चिम यमुना नहर तक रावी ब्यास नदी जल के हरियाणा के हिस्से को लाने के लिए बनी हांसी बुटाना नहर को सुप्रीम कोर्ट की तरफ से स्थगन लगाए जाने के कारण क्रियान्वित नहीं किया जा सका।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App