ताज़ा खबर
 

जगन्नाथ मंदिर की 35 हजार एकड़ जमीन बेच रही सरकार, ISKCON प्रवक्ता बोले- मूर्ख हिंदुओं की उदासीनता का परिणाम

सरकार के इस कदम का उद्देश्य 12 वीं सदी के मंदिर के 650 करोड़ रुपये के कोष को 2023 तक बढ़ाकर 1,000 करोड़ रुपये करना है।

जगन्नाथ मंदिर की देशभर में हजारों एकड़ भूमि है। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस फाइल)

ओडिशा सरकार भगवान जगन्नाथ के नाम पर राज्य और देश के दूसरे हिस्सों में फैली 35000 एकड़ जमीन को बेच रही है। इस कदम का उद्देश्य 12 वीं सदी के मंदिर के 650 करोड़ रुपये के कोष को 2023 तक बढ़ाकर 1,000 करोड़ रुपये करना है। विधानसभा में बीजेपी विधायक मोहन लाल मांझी के एक सवाल के जवाब में कानून और आवास और शहरी विकास मंत्री प्रताप जेना ने कहा है कि पूर्व राज्यपाल बीडी शर्मा की अध्यक्षता में गठित एक कमेटी और जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति से स्वीकृति मिलने के बाद राज्य सरकार ने मंदिर की 35,272.235 एकड़ जमीन बेचने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मामले में इस्कान के प्रवक्ता ने कहा, “यह मूर्ख हिंदुओं की उदासीनता का परिणाम है।”

जेना ने कहा, “हमने अब तक श्री जगन्नाथ मंदिर से संबंधित 60,426.943 एकड़ भूमि की पहचान की है। इसमें से 395.252 एकड़ बंगाल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों में ओडिशा के बाहर स्थित है। भूमि की वसूली और भूमि के रिकॉर्ड को नियमित करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।” जगन्नाथ मंदिर के अधिकारियों के अनुसार कई भक्तों ने अंतिम इच्छा के रूप में भगवान के नाम पर भूमि दान की थी, लेकिन कई वर्षों में, लोगों ने कई क्षेत्रों में ऐसी भूमि पर अतिक्रमण किया है। जबकि भगवान जगन्नाथ के नाम पर भूमि ओडिशा के 24 जिलों में फैली हुई है, 395.252 एकड़ छह अन्य राज्यों में पाए गए हैं।

जगन्नाथ मंदिर के आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, 17.02 एकड़ आंध्र प्रदेश में है, जबकि 322.93 एकड़ बंगाल में और 28.218 एकड़ महाराष्ट्र में है। इसी प्रकार, 25.11 एकड़ मध्य प्रदेश में, बिहार में 0.274 एकड़ और छत्तीसगढ़ में 1.70 एकड़ में स्थित है। “हम इन जमीनों को वापस पाने के लिए संबंधित जिला कलेक्टरों के संपर्क में हैं। भूमि बेची जाएगी और इससे अर्जित धन को प्रभु के नाम पर एक निश्चित जमा राशि में रखा जाएगा। मंदिर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, हमने 2023 तक भगवान के नाम पर 1,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य तक पहुंचने की योजना बनाई है।

30 साल, 20 साल और 12 साल से अधिक समय तक भगवान जगन्नाथ के नाम पर जमीन पर कब्जा करने वालों को क्रमशः 6 लाख, 9 लाख और 15 लाख रुपये प्रति एकड़ का भुगतान करके इसे अपने नाम पर दर्ज करने का अवसर मिलेगा।

इस बीच, श्री जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति के अध्यक्ष और पुरी राजा, गजपति दिब्या सिंह देब ने अनिवासी ओडियों से बात की है और मंदिर के समग्र विकास के लिए उनका सहयोग मांगा है। ओडिशा सरकार पुरी को 3,000 करोड़ रुपये से अधिक की अनुमानित लागत पर विश्व विरासत शहर में बदलने पर काम कर रही है।

Next Stories
1 बीमा क्षेत्र में FDI की सीमा 49 से 74% करने का बिल राज्यसभा में पास, जानिए क्या हैं इसके मायने
2 कोरोना में भी PM केयर फंड से जनता को 2 रुपए का मास्क तक फ्री नहीं मिला- डिबेट में बोले पैनलिस्ट
3 बंगाल: भाजपा ने जारी की 4 चरणों के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट, मुकुल रॉय और राहुल सिन्हा को टिकट; फुटबॉलर और लोक संगीत गायक भी लड़ेंगे चुनाव
ये पढ़ा क्या?
X