ताज़ा खबर
 

बदल गया है ताजमहल के संगमरमर का रंग, सरकार ने लोकसभा को बताया

सरकार ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में बताया कि ताजमहल में लगे संगमरमर पर प्रदूषित कण लगातार इकट्ठा हो रहे हैं। इस वजह से उसका रंग बदल गया है।

ताजमहल (Photo: PTI)

प्रदूषण की वजह से ताजमहल में लगे संगमरमर पर प्रदूषित कण लगातार इकट्ठा हो रहे हैं। इन वजह से जब प्रकाश जब इन संगमरमर के पत्थरों से टकराकर वापस लौटती है तो ताजमहल के रंग में बदलाव दिखता है। यह बात सरकार ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के हवाले से लोकसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही। पूछा गया था कि क्या ताजमहल का संगमरमर का रंग वायु पदूषण की वजह से बदल गया है? सरकार ने इसी सवाल के जवाब में उपरोक्त बातें कही।

पर्यावरण मंत्रालय के राज्य मंत्री महेश शर्मा ने बीते शुक्रवार को सवालों का जवाब देते हुए कहा कि एएसआई ने ताजमहल की सतहों को प्रदूषण से बचाने के लिए वैज्ञानिक तरीके से सफाई व संरक्षण की योजना तैयार की है। उन्होंने कहा, “सभी चार मीनारों, आठ किनारों, संगमरमर की चार दीवारों, मनुष्य की ऊंचाई तक ताजमहल के अंदरुनी हिस्सों और मुख्य मकबरे की चार छतों को पहले ही साफ किया जा चुका है। हालांकि, मुख्य गुंबद की सफाई के लिए कुछ तकनीकी पहलुओं पर ध्यान देने की आवश्यकता है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या यमुना के प्रदूषित जल की वजह से ताजमहल की नींव कमजोर हो रही है? शर्मा ने एएसआई का हवाला देते हुए कहा, “नदी का जल स्तर स्मारक की उत्तरी दीवार से काफी दूर था। इस वजह से यमुना नदी के जल स्तर और ताजमहल की नींव की मजबूती को लेकर विशेष अध्ययन नहीं किया गया।”

बता दें कि कुछ महीने पहले सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को ताजमहल की समुचित देखभाल कर पाने में असमर्थ होने को लेकर जमकर फटकार लगाई थी। अदालत ने सख्त लहजे में कहा कि प्रशासन ताजमहल को ठीक से संरक्षित करे, या फिर उसे ढहा दें, नहीं तो न्यायालय उसे बंद कर देगी। न्यायमूर्ति मदन बी.लोकुर व न्यायमूर्ति दीपक प्रशासन की तरफ से ताजमहल के संरक्षण के लिए कोई कदम नहीं उठाने से खफा थे और उन्होंने कहा कि यह सरकार की सरासर लापरवाही है। खंडपीठ ने कहा, “ताजमहल को संरक्षित करने की बिल्कुल इच्छा नहीं है। ताजमहल को संरक्षित किया जाना चाहिए। या तो हम इसे बंद कर देंगे या आप इसे ढहा दें या इसे संरक्षित करें।”

अदालत ने कहा था कि ताजमहल एफिल टॉवर से ज्यादा सुंदर है और यह देश की विदेशी मुद्रा की समस्या को हल कर सकता है। अदालत ने कहा, “एफिल टॉवर को आठ करोड़ लोग देखने जाते हैं, जो कि टीवी के एक टॉवर जैसा दिखता है। हमारा ताजमहल बहुत ज्यादा खूबसूरत है। यदि आप इसकी देखभाल करेंगे तो इससे आपकी विदेशी मुद्रा की समस्या हल होगी।” गौर हो कि ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में बनवाया था। (एजेंसी इनपुट के साथ)

Next Stories
1 हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बोले- पहले दो साल ट्रेनिंग ले रहा था, 2019 में काम करके दिखाऊंगा
2 जेंडर गैप इंडेक्‍स में निचले पायदान पर भारत, इंडोनेशिया-ब्राजील हमसे बेहतर हाल में
3 भारत का सबसे लंबा रेलरोड ब्रिज: देवेगौड़ा ने शिलान्‍यास किया, वाजपेयी ने काम शुरू कराया, अब मोदी करेंगे उद्घाटन
आज का राशिफल
X