ताज़ा खबर
 

जवानों की गैरजरूरी छुट्टियां रद्द करे फोर्स : सरकार

कहा गया है, ‘बेहद जरूरी नहीं होने पर अंतरराष्ट्रीय और घरेलू हवाई, बस तथा ट्रेन यात्राओं से कम से कम एक महीने तक बचें। लंबी दूरी की यात्राएं प्रसार (वायरस संक्रमण फैलने) का सबसे बड़ा कारण हैं।’

Author Published on: March 19, 2020 4:55 AM
Coronavirus: 16 मार्च से 15 अप्रैल तक कुल 90 पाठ्यक्रम को अगली सूचना तक टाल दिया है। (Express photo by Sahil Walia/File)

सरकार ने एक आदेश जारी कर केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के जवानों की सभी गैरजरूरी छुट्टियां रद्द करने को कहा है ताकि यात्रा के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित होने के खतरे को न्यूनतम किया जा सके। साथ ही सभी बलों से कहा गया है कि वे व्यक्तिगत और सार्वजनिक सुरक्षा सुनिश्चित कर इस महामारी से निपटने के लिए ‘युद्ध के समान’ तैयारियां करें।

केंद्रीय गृह मंत्रालय की मेडिकल शाखा की ओर से मंगलवार को जारी चार पन्नों के निर्देश में कहा गया है कि वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने में अगले तीन सप्ताह महत्त्वपूर्ण हैं। इस दौरान सावधानी हटने से सैनिक भी प्रभावित हो सकते हैं। सीएपीएफ के करीब 10 लाख कर्मी देश की आंतरिक और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठाते हैं। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल या अर्द्धसैनिक बलों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) तथा आतंकवाद निरोधी बल राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) तथा असम राइफल्स शामिल है।

प्राप्त दिशानिर्देशों की प्रति के अनुसार, ‘इसके साथ ही सभी प्रकार/श्रेणियों के गैरजरूरी अवकाश रद्द किए जाते हैं। इससे यात्रा के खतरे में भी कमी आएगी।’ उसमें कहा गया है, ‘बेहद जरूरी नहीं होने पर अंतरराष्ट्रीय और घरेलू हवाई, बस तथा ट्रेन यात्राओं से कम से कम एक महीने तक बचें। लंबी दूरी की यात्राएं प्रसार (वायरस संक्रमण फैलने) का सबसे बड़ा कारण हैं।’ सरकार ने बलों से कहा है कि वे सभी बैठकों, सामान्य विभागीय समीक्षाओं, जैसे… पदोन्नति, मेडिकल समीक्षा, खेल आयोजनों और भर्ती आदि को स्थगित कर दे। बलों के कर्मियों की पेशेवर सुरक्षा और स्वास्थ्य संबंधी दिशानिर्देशों में कहा गया है कि युद्ध स्तर की तैयारियां करने की जरूरत है, ना सिर्फ सैद्धांतिक रूप से बल्कि अभ्यासों के माध्यम से भी। बल कर्मियों को आपस में हाथ नहीं मिलाने और सामान्य सामाजिक मेलजोल से दूरी बनाए रखने की सलाह देते हुए उनसे स्वच्छता से जुड़ी सामग्री और सेनेटाइजर आदि खरीदने के लिए ‘अतिरिक्त आपात बजट’ रखने को कहा गया है।

सरकार ने कहा है, ‘जिन लोगों को पृथक रखा गया है, उन्हें मोबाइल, लैपटॉप, टेलीविजन और अखबारों के जरिए बाहरी दुनिया से संबंध बनाए रखने की सुविधा दी जाए। पर्याप्त संख्या में चार्जर और एडॉप्टर, चार्जिंग प्लग होना अनिवार्य है। पर्याप्त मात्रा में कपड़े, दवाएं, भोजन और खाद्यान्नों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।’ कर्मियों और उनके परिवारों से भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने को कहा गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 राशन की दुकान से 6 महीने का अनाज एक साथ उठा सकेंगे, 75 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा
2 Yes Bank: येस बैंक ग्राहकों के लिए खुशखबरी, पाबंदी हटने के बाद सभी बैंकिंग सेवाएं फिर से बहाल
3 फ्लाइट अटैंडेंट ने पैसेंजर को मारा थप्पड़, यात्री ने भी दिया जवाब, वायरल हो रहा Video