ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान की लगातार फायरिंग का इलाज, कश्मीर के गांवों में 14,000 बंकर बनवाएगी सरकार

सरकार इन बंकरों का निर्माण जम्मू कश्मीर के विभिन्न सीमावर्ती इलाकों में करवाएगी। जिन जिलों में यह बंकर बनाए जाएंगे उनमें - सांबा, पुंछ, जम्मू, कठुआ और राजौरी शामिल हैं। यह सभी जिले पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गोलीबारी में सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं।

प्रतिकात्मक फोटो ( फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर के सीमावर्ती इलाकों में बार-बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर फायरिंग करने वाले पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए केंद्र सरकार ने ठोस कदम उठाने का फैसला किया है। इस फैसले के तहत पाकिस्तानी गोलीबारी का सामना करने वाले सीमाई बाशिंदों के लिए नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास करीब 14,000 सामुदायिक और निजी बंकर बनाए जाएंगे।

इन जिलों में होगा बंकर का निर्माण? सरकार इन बंकरों का निर्माण जम्मू कश्मीर के विभिन्न सीमावर्ती इलाकों में करवाएगी। जिन जिलों में यह बंकर बनाए जाएंगे उनमें – सांबा, पुंछ, जम्मू, कठुआ और राजौरी शामिल हैं। यह सभी जिले पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गोलीबारी से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग और बमबारी से इन इलाके में रहने वाले लोगों के जान-माल का नुकसान सबसे ज्यादा होता है।

कहां कितने बंकरों का होगा निर्माण? जानकारी के मुताबिक यहां 13029 निजी बंकर औऱ 1431 सामुदायिक बंकरों का निर्माण कराया जाएगा। निजी बंकरों का आकार 160 वर्ग फुट होगा जिसमें आठ लोग आ सकेंगे और करीब 800 वर्ग फुट में बनने वाले सामुदायिक बंकरों में 40 लोग के रहने की व्यवस्था होगी। सांबा सेक्टर में 2515 निजी बंकर और 8 सामुदायिक बंकर बनाए जाएंगे। इसी तरह जम्मू में 1200 निजी और 120 सामुदियक बंकरों का निर्माण किया जाएगा। करीब 4918 निजी बंकर और 372 सामुदायिक बंकरों का निर्माण राजौरी में किया जाएगा। कठुआ में 3,076 सामुदायिक बंकर बनाए जाएंगे। जबकि पुंछ में 688 सामुदायिक बंकर और 1320 निजी बंकर बनाए जाएंगे।

NBCC करेगी बंकरों का निर्माण : इन बंकरों के निर्माण का जिम्मा राज्य सरकार द्वारा संचालित राष्ट्रीय बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन (NBCC) को दिया गया है। इस काम को करने के लिए एनबीसीसी को करीब 416 करोड़ रुपये दिये जाएंगे। एनबीसीसी के मैनेजिंग डायरेक्टर एके मित्तल ने कहा है कि यह एक चुनौतीपूर्ण काम है और उनकी कोशिश होगी कि हर बंकर का निर्माण ज्यादा से ज्यादा 2 से 3 दिनों के भीतर कर दिया जाए। आपको बता दें कि इस वक्त एनबीसीसी दिल्ली में वर्ल्ड ट्रेड सेन्टर बनाने के अलावा असम, मेघालय, मिजोरम औऱ त्रिपुरा में सड़कों के निर्माण कार्य में जुटी हुई है। आपको बता दें कि पाकिस्तान के साथ भारत की 3323 किलोमीटर की सीमा है, जिसमें 221 किलोमीटर अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी की 740 किलोमीटर सीमा जम्मू-कश्मीर में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App