ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान के साथ लगे बॉर्डर पर इजरायल जैसी बाड़ लगाने की तैयारी कर रही भारत सरकार

खबर है कि इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने अपने देश में प्रयोग की जा रही तकनीक भारत के साथ साझा करने की इच्‍छा जताई है।

Author नई दिल्‍ली | January 25, 2016 10:05 am
भारत पाक सीमा पर तैनात बीएसएफ जवान। (फाइल फोटो)

सीमापार से घुसपैठ पर अंकुश लगाने के लिए भारत-पाकिस्तान सीमा पर इस्राइल की तरह की बिल्कुल सुरक्षित बाड़ लग सकती है क्योंकि सरकार पंजाब और जम्मू में संवेदनशील सीमाओं पर ऐसे अवरोधक लगाने की संभावना खंगाल रही है। पठानकोट आतंकवादी हमले के आलोक में भारत पाकिस्तान सीमा पर घुसपैठ बिल्कुल खत्म करने के मुद्दे पर कई बैठकों में चर्चा हुई हैं जिनमें गृहमंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकर अजीत डोवालल समेत शीर्ष सरकारी अधिकारियों ने हिस्सा लिया।

पठानकोट में पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने हमला किया था और वे सीमापार कर आए थे। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘इन बैठकों में से एक में उन्होंने चर्चा की कि क्या भारत पश्चिमी सीमा पर इस्राइल की तरह की सीमा प्रहरी प्रणाली अपना सकता है।’ मजे की बात है कि नवंबर, 2014 में गृहमंत्री गाजा की बाहरी सीमाचौकियों में से एक पर गए थे और वह इजरायल की उन्नत सीमा सुरक्षा प्रणाली में इस्तेमाल की गयी प्रौद्योगिकी से बहुत प्रभावित हुए थे।

खबर है कि इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने सिंह से कहा था कि इजरायल सीमा सुरक्षा के लिए अपनी यह प्रणाली भारत के साथ साझा करने को ‘तैयार एवं इच्छुक’ है। इजरायल की दुनिया में सबसे अच्छी सीमा सुरक्षा प्रणाली को लेकर सराहना की जाती है, वह अपनी सीमा की सुरक्षा के लिए इंसान से ज्यादा प्रौद्योगिकी पर निर्भर करता है।

इस प्रणाली में उच्च गुणवत्ता वाले लंबी दूरी के दिन में देखने वाले कैमरे और बहुत ही उन्नत रात्रि पयर्ववेक्षण प्रणाली, तीसरी पीढ़ी के थर्मल इमेजर, लंबी दूरी तक नजर रखने वाले रडार, इलेक्ट्रोनिक टच एंड मोशन सेंसर, भूमिगत सेंसर (सुरंग का पता लगाने) आदि शामिल हैं। गृह मंत्री को बताया गया था कि जिन क्षेत्रों में बाड़ लगाना संभव नहीं हैं, जैसा कि भारत-पाकिस्तान सीमा पर भी कहीं-कहीं है, इस्राइल सुरक्षा के लिए छोटे मानवरहित विमान का इस्तेमाल करता है।

Read Also: ओबामा ने आतंकवाद पर पाकिस्‍तान को फिर दिया कड़ा संदेश, मोदी को बताया बेहद करीबी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App