ताज़ा खबर
 

कृषि कानूनों का विरोध: झुकी सरकार, आगे बढ़े किसान; दिल्ली आने की मिली इजाजत

टिकरी बॉर्डर से किसानों को निरंकारी मैदान तक छोड़ने के लिए दोपहर तीन बजे पुलिस भी उनके साथ गई। पंजाब से दिल्ली आने के लिए यह मुख्य मार्ग है। पुलिस ने उन्हें उत्तरी दिल्ली के निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन करने की अनुमति दी। यह दिल्ली के सबसे बड़े मैदानों में एक है।

Author नई दिल्ली/चंडीगढ़ | Updated: November 28, 2020 6:20 AM
Farmer's protest, agriculture billदिल्ली में दाखिल होने की इजाजत के इंतजार में शुक्रवार को सिंघू बॉर्डर पर जमा पंजाब व हरियाणा के किसान।

कृषि कानूनों के खिलाफ अपना विरोध जताने आ रहे किसानों को आखिरकार केंद्र सरकार ने दिल्ली आने की इजाजत दे दी। शुक्रवार को सुरक्षाकर्मियों के साथ जबरदस्त झड़प के बाद पंजाब व हरियाणा से आ रहे हजारों किसान टिकरी बार्डर से दिल्ली में दाखिल हुए। लेकिन सिंघू बॉर्डर पर जमा किसान शाम तक शहर में प्रवेश नहीं कर पाए जहां सुबह उनकी पुलिस के साथ जबरदस्त झड़प हुई थी। राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर जमा हजारों किसानों को उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन की इजाजत मिलने के बाद शहर के आसपास शुक्रवार को सुबह से बना तनाव का माहौल कुछ हद तक खत्म हो गया। दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी ईश सिंघल ने बताया, ‘किसान नेताओं के साथ बातचीत के बाद प्रदर्शनकारी किसानों को दिल्ली में बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दी गई है। हम किसानों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं।’ हालांकि किसानों को राजघाट जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

टिकरी बॉर्डर से किसानों को निरंकारी मैदान तक छोड़ने के लिए दोपहर तीन बजे पुलिस भी उनके साथ गई। पंजाब से दिल्ली आने के लिए यह मुख्य मार्ग है। पुलिस ने उन्हें उत्तरी दिल्ली के निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन करने की अनुमति दी। यह दिल्ली के सबसे बड़े मैदानों में एक है।

इससे पहले, पंजाब और हरियाणा से आए किसानों और दिल्ली पुलिस के बीच अलीपुर स्थित सिंघू बॉर्डर व टिकरी बॉर्डर पर शुक्रवार को जमकर भिडंÞत हुई। सुबह के वक्त बड़ी संख्या में किसान ट्रैक्टर-ट्राली, राशन और अन्य वाहनों के साथ सिंघू सीमा से दिल्ली में प्रवेश करने की अनुमति मांग रहे थे। इसी दौरान किसान नेता प्रेम सिंह चाढोनियां ने वाहन पर चढ़कर किसानों को संबोधित करना शुरू किया। उसके बाद किसान उग्र हो गए और उन्होंने पहले घेरे को तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और फिर पानी की बौछार की। फिर भी किसान अड़े रहे तो दोबारा आंसू गैस के गोले दागे गए। जवाब में किसानों ने भी पथराव किया।

आखिरकार दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों ने किसान नेताओं और उनके प्रतिनिधियों को बुलाकर बातचीत की और उन्हें ‘दिल्ली चलो’ मार्च को बुराड़ी स्थित संत निरंकारी ग्राउंड तक को ले जाने की अनुमति दी। सिंघू बार्डर पर धुंआ ही धुंआ नजर आ रहा था। टिकरी बॉर्डर पर भी सुरक्षा कर्मियों ने किसानों को राष्ट्रीय राजधानी में आने से रोकने के लिए उन पर पानी की बौछारें की। वहां किसानों ने अवरोधक के तौर पर लगाए ट्रक को जंजीरों (चैन) के जरिए ट्रैक्टर से बांध वहां से हटाने की कोशिश की।

इससे पहले, दिल्ली कूच की शुरुआत शुक्रवार सुबह पंजाब के शंभू बार्डर से शुरू हुई। पुलिस ने पहले उन्हें अंबाला में रोका और फिर कुरुक्षेत्र में, जहां किसानों और पुलिस में जमकर टकराव हुआ। कुल मिलाकर पंजाब-हरियाणा बॉर्डर से दिल्ली बॉर्डर तक तीन राज्यों की पुलिस ने आठ बार बड़ी नाकेबंदी कर किसानों को रोकने की कोशिश की, लेकिन किसान आगे बढ़ते गए।

किसानों को दिल्ली में दाखिल होने की इजाजत मिलने के बाद हरियाणा ने भी पंजाब सीमा पर लगे अवरोधक हटा लिए जिसके बाद पंजाब से किसानों के नए जत्थे दिल्ली आने के लिए हरियाणा में प्रवेश कर गए। शाम तक पंजाब से लगी अंतरराज्यीय सीमाओं और दिल्ली जाने वाले राजमार्गों पर लगे हरियाणा पुलिस के सभी अवरोधक हटा लिए गए और विभिन्न सड़कों पर यातायात सामान्य हो गया। प्रदर्शन से पहले 25 नवंबर की शाम से ही हरियाणा ने पंजाब के साथ अपनी सीमाएं दो दिनों (26-27 नवंबर) के लिए सील करने की घोषणा कर दी थी ताकि किसानों को दिल्ली पहुंचने से रोका जा सके।

इस बीच, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने प्रदर्शन कर रहे किसानों से आंदोलन बंद करने का अनुरोध करते हुए कहा कि सरकार उनसे सभी मुद्दों पर बातचीत के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि सरकार विभिन्न किसान संगठनों के साथ संपर्क में है और उन्हें तीन दिसंबर को बातचीत के लिए बुलाया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 किसान आंदोलन: BJP नेता बोले- सबने भांग मिला पानी पी लिया, एंकर ने पूछा ‘सड़क पर सब भांग पीकर आए हैं?’ कांग्रेस प्रवक्ता बोले- गलत बात मत करीये
2 एंकर ने पूछा – किसानों को कितना MSP मिलता है? BJP नेता कांग्रेस पर लगाने लगे राजनीति करने का आऱोप
3 किसानों के प्रदर्शन पर राहुल का ट्वीट- ‘ये तो बस शुरुआत है!’ BJP नेता नकवी का तंज – हम कांग्रेस नहीं जो…
ये पढ़ा क्या?
X