ताज़ा खबर
 

सरकार ने दिए निर्देश ब्लू व्हेल जैसे जानलेवा खेल के सारे लिंक हटाएं

इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सर्च इंजन गूगल इंडिया, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और याहू इंडिया के अलावा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप को ब्लूव्हेल चैलेंज गेम को डाउनलोड करने की सुविधा या इससे जुड़ा कोई लिंक अपने प्लेटफॉर्म से तुरंत हटाने को कहा है।
Author नई दिल्ली | August 16, 2017 01:26 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है (फाइल फोटो)

आत्महत्या का आह्वान करने वाले आॅन लाइन गेम ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ के दुष्परिणामों को देखते हुए केंद्र सरकार ने मंगलवार को इस पर रोक लगा दी। सरकार ने प्रमुख सर्च इंजन के साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से कहा इसे डाउनलोड करने संबंधी लिंक को हटा लिया जाए। इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सर्च इंजन गूगल इंडिया, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और याहू इंडिया के अलावा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप को ब्लूव्हेल चैलेंज गेम को डाउनलोड करने की सुविधा या इससे जुड़ा कोई लिंक अपने प्लेटफॉर्म से तुरंत हटाने को कहा है। मंत्रालय के वरिष्ठ निदेशक अरविंद कुमार द्वारा गत 11 अगस्त को जारी निर्देश में ब्लूव्हेल चैलेंज गेम के अलावा इससे मिलते-जुलते नाम वाले आॅनलाइन गेम के लिंक भी हटाने को कहा है।

इस गेम से बच्चों में आत्महत्या की प्रवृत्ति पनपने की शिकायतें सरकार को लगातार मिल रही थी। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के अलावा केरल, मध्य प्रदेश आदि कई राज्यों ने इस पर रोक की मांग की थी। इन शिकायतों के मद्देनजर सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस गेम पर रोक लगाने की पहल की है। हाल में मुंबई में रहने वाले मनप्रीत साहनी ने सात मंजिल की एक इमारत से कूद कर खुदकुशी कर ली थी । माना जा रहा है कि वह भारत में ब्लूव्हेल का पहला पीड़ित है।मंत्रालय ने इस गेम पर रोक लगाने के साथ ही सभी सर्च इंजन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को ब्लूव्हेल गेम को डाउनलोड करने का लिंक हटाने के निर्देश दिए हैं, जिससे इसका इस्तेमाल या सर्च करना मुमकिन न हो। एक अधिकारी ने बताया कि इस गेम पर प्रतिबंध की आशंका को देखते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पहले ही कई छद्म या प्रॉक्सी यूआरएल या आइपीएड्रेस बना लिए गए थे। इसके मद्देनजर ही सरकार ने अपने निर्देश में सर्च इंजन और सोशल मीडिया वेबसाइट से ब्लूव्हेल चेलैंज गेम से मिलते जुलते नाम वाले या यूआरएल वाले गेम के लिंक भी हटाने को कहा है।

हालांकि एक इंटरनेट विशेषज्ञ का मानना है कि इस खेल पर पाबंदी के बावजूद यह संभव नहीं है कि यह रुक जाए। सेंटर आॅफ इंटरनेट एंड सोसाइटी के उद्धव तिवारी का मानना है कि ब्लू व्हेल चैलेंज ऐसा कोई खेल नहीं है, जिसे किसी फोन पर या किसी वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सके और प्रतिबंधित हो सके। उनके मुताबिक, चूंकि चैलेंज के लिए कोई खास वेबसाइट या ऐप्लीकेशन नहीं है, इसलिए इसे प्रतिबंधित नहीं किया जा सकता। यह तब तक नहीं हो सकता जब तक आप इंटरनेट को ही पूरी तरह प्रतिबंधित नहीं कर दें।
जानलेवा ब्लू व्हेल 50 दिनों का चैलेंज है, जिसकी शुरूआत संभवत: रूस में हुई थी। रूस और मध्य एशियाई देश कजाखस्तान और किर्गिस्तान में 130 से ज्यादा लोग इस खेल के कारण मर चुके हैं।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.