ताज़ा खबर
 

इटैलियन में ट्वीट कर गिरिराज ने दिया राहुल गांधी को जवाब, लिखा- राजकुमार के पास दिमाग की कमी

केंद्रीय मंत्री की टिप्पणी राज्यसभा में उठाए गए एक सवाल के बाद आई है, जिसमें कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली मौतों की संख्या के बारे में बताया गया था।

गिरिराज सिंह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी एक बड़ी समस्या बन गई थी।ऑक्सिजन की कमी के चलते अस्पतालों को संघर्ष करना पड़ा और इसके चलते देश के कुछ हिस्सों से मरीजों की मौत की सूचना भी मिली। ये बात फिर से तब उठी जब केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री भारती प्रवीण पवार ने मंगलवार को राज्यसभा में उल्लेख किया कि देश में राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों ने विशेष रूप से ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी भी कोविड मरीज की मौत की सूचना नहीं दी है।

केंद्रीय मंत्री की टिप्पणी राज्यसभा में उठाए गए एक सवाल के बाद आई है, जिसमें कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली मौतों की संख्या के बारे में बताया गया था। मंगलवार देर शाम इस टिप्पणी का जवाब देते हुए राहुल गांधी ने सरकार को टैग करते हुए हिंदी में ट्वीट किया। “यह सिर्फ ऑक्सीजन की कमी नहीं थी। संवेदनशीलता और सच्चाई की भारी कमी भी थी – तब भी और अब भी ,”

इसी ट्वीट पर यूनियन मिनिस्टर गिरिराज सिंह ने पलटवार करते हुए इटैलियन में ट्वीट किया। “मैं इस राजकुमार के बारे में कहूंगा: उसके पास तब दिमाग की कमी थी, अब वह इसे याद करता है और वह इसे हमेशा के लिए याद करेगा। ये सूचियां राज्यों द्वारा संचालित की जाती हैं। आप अपनी पार्टी द्वारा शासित राज्यों को संशोधित सूचियां जमा करने के लिए कह सकते हैं। तब तक झूठ बोलने से रुकें,”

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान, ऑक्सीजन की कमी के कारण COVID-19 रोगियों की मौत के बारे में कई मीडिया रिपोर्टें सामने आई थीं। इलाहाबाद उच्च न्यायालय और दिल्ली उच्च न्यायालय सहित देश की विभिन्न अदालतों ने अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी के कारण मौत का हवाला देते हुए केंद्र सरकार को फटकार भी लगाई थी।

कांग्रेस नेता के सी वेणुगोपाल ने सवाल किया कि क्या यह सच नहीं है कि ऑक्सीजन की भारी कमी के कारण सड़कों और अस्पतालों में बड़ी संख्या में मरीजों की मौत हो गई, केंद्रीय मंत्री ने जवाब देते हुए कहा, “स्वास्थ्य राज्य का विषय है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को मौतों की रिपोर्टिंग के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। सभी राज्य/केंद्र शासित प्रदेश नियमित आधार पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को मामलों और मौतों की रिपोर्ट करते हैं। हालांकि, राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा विशेष रूप से ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की मौत की सूचना नहीं मिली है।”

इस बीच, राज्यसभा में, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार ने COVID-19 रोगियों के लिए देखभाल सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं। उन्होंने ने यह भी कहा कि अस्पतालों को चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति संविदात्मक समझौतों द्वारा निर्धारित की जाती है। स्वास्थ्य मंत्री ये कहा कि, “हालांकि, दूसरी लहर के दौरान चिकित्सा ऑक्सीजन की मांग में अभूतपूर्व वृद्धि के कारण, केंद्र सरकार को राज्यों को समान वितरण की सुविधा के लिए कदम उठाना पड़ा।”

Next Stories
1 जासूसीः भाजपा सांसद की बात पर बोले दिग्विजय, जो बात मोदी-शाह से पूछ रहे, आप ही पता लगा सकते हैं
2 पेगासस जासूसी कांड: भारत विरोधी एमनेस्टी इंटरनेशनल ने लिखी है रिपोर्ट, एक भी ठोस तथ्य नहीं- रिपब्लिक टीवी पर गरजे अर्नब गोस्वामी
3 मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं नवजोत सिंह सिद्धू? अमृतसर में करेंगे शक्ति प्रदर्शन
ये पढ़ा क्या ?
X