scorecardresearch

कश्मीर में लगभग 400 गिरफ्तार, गुलाम नबी आजाद भी जाएंगे श्रीनगर, लेकिन एयरपोर्ट से ही लौटाने की तैयारी

कांग्रेस सांसद और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद गुरुवार को श्रीनगर की यात्रा करने वाले हैं, लेकिन सूत्रों ने कहा कि उन्हें हवाई अड्डे से वापस भेजे जाने की उम्मीद है।

Jammu and kashmir: गुलाम नबी आजाद भी जाएंगे श्रीनगर, लेकिन एयरपोर्ट से ही लौटाने की तैयारी। (Indian express)

Ghulam Nabi Azad, Jammu and kashmir, article 370: जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद-370 को हटाये जाने के बाद राज्य में धारा 144 लागू है। इस दौरान बहुत से लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि तीन बिजनस लीडर और एक यूनिवर्सिटी प्रोफेसर, मुख्यधारा और अलगाववादी कार्यकर्ताओं सहित लगभग 400 लोगों को कश्मीर में पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कांग्रेस सांसद और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद गुरुवार को श्रीनगर की यात्रा करने वाले हैं, लेकिन सूत्रों ने कहा कि उन्हें हवाई अड्डे से वापस भेजे जाने की उम्मीद है।

सूत्रों ने कहा कि कारोबारी लीडर शकील कलांदर और मुबीन शाह को गिरफ्तार किया गया है। एक अधिकारी ने कहा ‘वे सेंट्रल जेल में बंद हैं। एक अन्य कारोबारी नेता यासीन खान, जिनसे पहले एनआईए ने पूछताछ की थी, उन्हें भी गिरफ्तार किया गया है।” अधिकारी ने कहा “हमीद नईम, जो कश्मीर सेंटर फॉर सोशल एंड डेवलपमेंट स्टडीज (KCSDS) के प्रमुख हैं, को हिरासत में लिया गया है। उनके पति नईम खान, एक अलगाववादी नेता हैं, जो पहले से ही जेल में हैं।” कश्मीर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मियां कयूम को भी हिरासत में लिया गया है।

[bc_video video_id=”6069027671001″ account_id=”5798671092001″ player_id=”JZkm7IO4g3″ embed=”in-page” padding_top=”56%” autoplay=”” min_width=”0px” max_width=”640px” width=”100%” height=”100%”]

कश्मीर चैंबर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष मुबीन शाह के परिवार ने उनकी गिरफ्तारी की पुष्टि की। उनके एक रिश्तेदार ने एक संदेश भेजकर बताया “मेरे चचेरे भाई डॉ. मुबीन शाह को 5 अगस्त को उनके घर से लगभग आधी रात को उठाया गया था… वह डायबिटीज़ और हृदय की दवा पर है… पुलिस जब उन्हें लेने के लिए आई  तो उनकी पत्नी मौजूद थी।” पीडीपी के युवा नेता वहीद पारा के रिश्तेदारों का कहना है कि वह हिरासत में लिए गए लोगों में से थे, लेकिन अबतक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। सूचना नाकाबंदी के बीच, कश्मीर प्रेस क्लब के महासचिव, इश्फाक तांत्रे ने कहा “कर्फ्यू और संचार के साधनों की अनुपस्थिति में, पत्रकारों के लिए काम करना असंभव है। हम मीडिया गैग के मुद्दे को उठाने के लिए भारतीय प्रेस परिषद और अंतर्राष्ट्रीय पत्रकार निकायों से अपील करते हैं।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.