scorecardresearch

नई दिल्लीः सोनिया गांधी की लीडरशिप पर कोई सवाल नहीं, बोले जी-23 के गुलाम नबी- वो भी संगठन की मजबूती चाहती हैं

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी में अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की थी लेकिन हम सभी ने उन्हें पद पर बने रहने के लिए कहा था।

Congress, Ghulam Nabi Azad
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद(फोटो सोर्स: PIT)।

हाल ही में आए पांच राज्यों के चुनाव नतीजों में कांग्रेस के प्रदर्शन पर जी-23 नेताओं ने पार्टी नेतृत्व पर फिर से सवाल खड़े करना शुरू कर दिया है। बता दें कि कपिल सिब्बल ने तो गांधी परिवार को केंद्रीय नेतृत्व से अलग होने की हिदायत तक दे डाली। वहीं 18 मार्च को पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करने पहुंचे थे।

कांग्रेस के भीतर चल रहे आत्ममंथन के इस दौर में गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सोनिया गांधी भी संगठन की मजबूती चाहती हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी नेतृत्व पर कोई सवाल नहीं है। लेकिन सभी को आत्ममंथन करने की जरुरत है। आजाद ने कहा कि सोनिया गांधी विधानसभा चुनाव 2022 में मिली हार को लेकर असंतुष्ट नेताओं के समूहों द्वारा दिए गए सुझावों पर विचार करेंगी।

गुलााम नबी आजाद ने बीते शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में 10 जनपथ पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। इसको लेकर उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई विवाद नहीं है। उन्होंने कहा, “संगठन में बदलाव को लेकर हमारे सुझावों को सोनिया गांधी सुना है और वो भी चाहती हैं कि संगठन मजबूत हो।”

कपिल सिब्बल द्वारा नेतृत्व में बदलाव की बात किये जाने पर आजाद ने कहा कि नेतृत्व (परिवर्तन) का कोई सवाल ही नहीं है। जब सोनिया गांधी ने सीडब्ल्यूसी में पद छोड़ने की पेशकश की थी, तब हम सभी ने उन्हें पद पर बने रहने के लिए कहा था। इस पर पार्टी में चुनाव होने पर चर्चा होगी और अध्यक्ष कौन हो, इसका फैसला पार्टी कार्यकर्ता करेंगे।

सोनिया गांधी और गुलाम नबी आजाद की मुलाकात की काफी चर्चा भले ही हो लेकिन आजाद ने इसे महज रूटीन मुलाकात बताया। वहीं इससे पहले 16 मार्च को गुलाम नबीं के घर डिनर के बहाने एक बैठक बुलाई गई थी। इसमें जी-23 ग्रुप के 18 नेताओं ने भाग लिया। बैठक में कांग्रेसी नेताओं ने सीधे तौर पर पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे। नाराज नेताओं का कहना है कि कांग्रेस का मजबूत होना जरूरी है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट