ताज़ा खबर
 

जिलेटिन केसः RIL चेयरमैन मुकेश अंबानी के घर मिली SUV का मालिक ट्रेस, पर आतंकी ऐंगल से पुलिस नहीं करती इन्कार

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘कार से बरामद एक पत्र कथित तौर पर अंबानी, उनकी पत्नी और उनके परिवार को संबोधित है।’’ यह पत्र हिंदी भाषा में है, लेकिन इसे रोमन लिपि में लिखा गया है। पत्र में कहा गया है, ‘‘यह एक झलक भर है, लेकिन अगली बार सामान (विस्फोटक) पूरी तरह से तैयार रहेगा।’’

Mukesh Ambani, RIL, Mumbaiमुंबई में RIL के मुखिया मुकेश अंबानी के घर Antilla के बाहर तैनात सुरक्षाकर्मी। (फोटोः एक्सप्रेस-निर्मल हरिंदरन/पीटीआई)

जिलेटिन केस में जाने-माने उद्योगपति व RIL चेयरमैन मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटकों के साथ गुरुवार को पाई गई गाड़ी का मालिक ट्रेस कर लिया गया है, जबकि पुलिस को इस घटना से जुड़ा फिलहाल कोई आतंकी ऐंगल नहीं मिला है। हालांकि, पुलिस ने इसके होने पर इन्कार भी नहीं किया है।

मुंबई के ज्वॉइंट सीपी (क्राइम) मिलिंद भारंबे ने अंग्रेजी अखबार ‘टीओआई’ को बताया, पुलिस सभी पहलुओं की जांच में जुटी है, जिसमें संभावित आतंकी साजिश का ऐंगल भी है। एक अन्य वरिष्ठ अफसर ने कहा- इसमें आंतकी हमले की साजिश या कोई कुख्यात आतंकी संगठन शामिल होता तो वह इसकी जिम्मेदारी ले लेता। 24 घंटे बीत चुके हैं, पर किसी ने इस बाबत दावा नहीं ठोंका है, पर आतंकी ऐंगल को खारिज भी नहीं किया जा सकता है।

जानकारी के मुताबिक, यह गाड़ी (जिसमें जिलेटिन की छड़ें मिली थीं) पिछले हफ्ते चोरी हो गई थी। कार से खत भी मिला था, जिसमें इसे आने वाली चीजों की महज एक झलक बताया गया है। शुक्रवार को पुलिस ने इस बारे में समाचार एजेंसी पीटीआई- भाषा को बताया- राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है और मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच से संपर्क किया है।

पुलिस के मुताबिक, रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष, अंबानी के आवास एंटीलिया के पास बृहपतिवार शाम एक स्कॉर्पियो खड़ी पायी गयी थी, जिसमें ढाई किलोग्राम जिलेटिन की छड़ें थीं। अंदर तैयार विस्फोटक उपकरण नहीं था और न ही डेटोनेटर और बैट्रियां थीं। गाड़ी की नंबर प्लेट भी अंबानी की सुरक्षा में शामिल एक एसयूवी के समान ही थी। पुलिस को स्कॉर्पियो के अंदर चार नंबर प्लेट मिले जिनमें दो अंबानी परिवार की सुरक्षा में लगे वाहनों से मिलते-जुलते हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि वाहन के मालिक ने अपनी स्कॉर्पियो (स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल) चोरी हो जाने के बारे में पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज कराई थी। सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि एसयूवी बृहस्पतिवार की सुबह वहां खड़ी की गई थी और इसका चालक एक इनोवा में फरार हो गया जो वहां तक साथ आई थी। स्कॉर्पियो और इनोवा दोनों का नंबर प्लेट भी फर्जी पाया गया था। स्कॉर्पियो का चेचीस नंबर भी खुरच दिया गया था।

अधिकारी के अनुसार, ‘‘वाहन के मालिक हिरेन मनसुख ने टीवी पर देखा कि अंबानी के घर के पास पाया गया वाहन उनकी एसयूवी जैसा ही दिख रहा है, जिसके बाद आज दोपहर वह दक्षिण मुंबई में पुलिस आयुक्त कार्यालय गये।’’ उन्होंने बताया, ‘‘उनका (मनसुख का) बयान मुंबई अपराध शाखा की अपराध खुफिया इकाई द्वारा दर्ज किया जाएगा।’’

ठाणे निवासी मनसुख ने बाद में मीडिया से कहा कि उन्होंने अपने वाहन की स्टीयरिंग जाम होने पर उसे 17 फरवरी को आइरोली मुलंद पुल के पास खड़ा कर दिया था। उस वक्त वह एक पारिवारिक कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे। बकौल मनसुख, ‘‘अगले दिन, जब मैं अपना वाहन लाने गया तो वह वहां नहीं दिखा। इसके बाद मैंने करीब चार घंटे तक उसे ढूंढा। मुझे इसके चोरी हो जाने की आशंका हुई, जिसके बाद मैंने विखरोली पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज कराई।’’

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘कार से बरामद एक पत्र कथित तौर पर अंबानी, उनकी पत्नी और उनके परिवार को संबोधित है।’’ यह पत्र हिंदी भाषा में है, लेकिन इसे रोमन लिपि में लिखा गया है। पत्र में कहा गया है, ‘‘यह एक झलक भर है, लेकिन अगली बार सामान (विस्फोटक) पूरी तरह से तैयार रहेगा।’’ यह पत्र ड्राइवर सीट के ठीक आगे नीले रंग के थैले में रखा हुआ था, जबकि जिलेटिन की छड़ें इसके निर्माता, ‘सोलर इंडस्ट्रीज, नागपुर’ के नाम से एक पैकेट में रखी हुई थी। कार से ‘मुंबई इंडियंस’ छपा हुआ एक थैला भी मिला।

वहीं, नागपुर के सोलर इंडस्ट्रीज के मालिक सत्यनारायण नुवाल ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि पैकेट मिलने के बारे में उन्हें मुंबई पुलिस का एक कॉल आया है। बयान में कहा गया है कि विस्फोट नियम, 2008 के तहत कंपनी द्वारा विस्फोटकों के उत्पादन एवं बिक्री के सभी डेटा विस्फोट विभाग एवं पुलिस को सौंप दिए गए हैं। यह भी कहा गया है कि उसके द्वारा उत्पादित विस्फोटकों (जिलेटिन की छड़ें) में डेटोनेटर के बगैर विस्फोट नहीं किया जा सकता। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता ने बताया कि गामदेवी पुलिस थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की गई है।

मुंबई पुलिस ने मामले की जांच के लिए कम से कम दस टीमों का गठन किया है। उन्होंने बताया कि भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के अलावा विस्फोटक पदार्थ अधनियम, 1908 की संबद्ध धाराएं भी प्राथमिकी में शामिल की गई हैं। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने ट्वीट किया था, ‘‘मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के निकट एक स्कॉर्पियो गाड़ी में जिलेटिन की 20 छड़ें मिली हैं। मुंबई पुलिस की अपराध शाखा मामले की जांच कर रही है और जल्द ही जांच के नतीजे सामने आ जाएंगे।’’

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बयान जारी कर ‘‘त्वरित कार्रवाई’’ के लिए मुंबई पुलिस को धन्यवाद दिया। बयान में कहा गया है, ‘‘हमें विश्वास है कि मुंबई पुलिस इसकी विस्तृत जांच जल्द पूरी कर लेगी।’’

Next Stories
1 5 सूबों में चुनाव, पर 2 जगह आचार संहिता की नाकदरी! बंगाल में ममता ने बढ़ाई दिहाड़ी तो तमिलनाडु में दे दिया गया कोटा
2 दिल्ली में बढ़ने लगे संक्रमित, 24 घंटे में कोरोना के 256 नए मरीज, एक की मौत
3 वृद्धि की राह पर लौटी अर्थव्यवस्था, अक्तूबर-दिसंबर में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 0.4 फीसद की बढ़त
ये पढ़ा क्या?
X