ताज़ा खबर
 

छोटा राजन बाली में गिरफ्तार, सरकार ने कहा: डॉन को भारत लाया जाएगा

भारत के सबसे वांछित अपराधियों में एक अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया पुलिस ने इंटरपोल के रेडकार्नर नोटिस के आधार पर बाली में गिरफ्तार कर लिया है।

Author नई दिल्ली | October 27, 2015 9:22 AM
भारत के सबसे वांछित अपराधियों में एक अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया पुलिस ने इंटरपोल के रेडकार्नर नोटिस के आधार पर बाली में गिरफ्तार कर किया गया। (Source: NCB-Interpol Indonesia)

भारत के सबसे वांछित अपराधियों में एक अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया पुलिस ने इंटरपोल के रेडकार्नर नोटिस के आधार पर बाली में गिरफ्तार कर लिया है। वह पिछले दो दशक से फरार था। उसे जल्द ही वहां से भारत निर्वासित किया जाएगा। उसे यहां लाने में कोई दिक्कत नहीं होगी। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और सीबीआइ के निदेशक अनिल सिन्हा ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि कर दी है।

इंडोनेशिया की पुलिस को आॅस्ट्रेलिया पुलिस से ऐसी सूचना मिली थी कि राजेंद्र सदाशिव निखल्जे उर्फ मोहन कुमार उर्फ छोटा राजन सिडनी से वहां के लोकप्रिय पर्यटन स्थल बाली के लिए रवाना हुआ है, जहां से उसे रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया। गृह मंत्री राजनाथ सिंह संवाददाताओं से कहा कि एक बार पहचान और पुष्टि होने के बाद जरूरी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने छोटा राजन को पकड़ने में सहयोग के लिए इंटरपोल और इंडोनेशियाई अधिकारियों का धन्यवाद किया।

इंडोनेशियाई अधिकारियों ने बाली में छोटा राजन की गिरफ्तारी के बाद कहा कि वे उसे निर्वासित करेंगे। बाली के पुलिस प्रवक्ता हेरी वियांतो ने बताया कि आॅस्ट्रेलियाई पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, इंडोनेशियाई प्रशासन ने राजेंद्र सदाशिव निखल्जे उर्फ छोटा राजन को रविवार को यहां सिडनी से लोकप्रिय रिजॉर्ट आयलैंड बाली पहुंचने पर गिरफ्तार कर लिया। 55 वर्षीय राजन पिछले दो दशकों से फरार था। वियांतो ने बताया कि इंटरपोल ने उसे 1995 में ही वांछित घोषित कर दिया था।


उन्होंने बताया कि हमें कैनबरा पुलिस से एक हत्यारे के बारे में रेड कार्नर नोटिस के संबंध में सूचना मिली थी। हमें पता चला कि इस आदमी पर भारत में 15 से 20 हत्याओं में शामिल होने का संदेह था। बाली पुलिस इंटरपोल और भारतीय प्रशासन से समन्वय कर रही थी। वियांतो ने बताया कि उसे भारत प्रत्यर्पित किए जाने की संभावना है। आॅस्ट्रेलियाई फेडरल पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि कैनबरा में इंटरपोल ने इंडोनेशियाई प्रशासन को सतर्क कर दिया था जिसने भारतीय प्रशासन की अपील पर राजन को गिरफ्तार कर लिया।

नई दिल्ली में गृहमंत्री ने कहा कि भारत सरकार लंबे समय से उसे पकड़ने का प्रयास कर रही थी। यह पूछने पर कि क्या अंडरवर्ल्ड डॉन और 1993 के मुंबई विस्फोट का आरोपी दाऊद इब्राहिम अगला निशाना है तो सिंह ने कहा कि देखते हैं कि भविष्य में क्या होता है। वहीं गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि इंडोनेशिया, आॅस्ट्रेलिया और भारत की सुरक्षा एजंसियों के बीच तालमेल के कारण गिरफ्तारी हो सकी। राजन के खिलाफ अधिकतर मामले मुंबई में दर्ज हैं और महानगर की पुलिस उसके खिलाफ अभियोजन की पहल करेगी।

Also Read: छोटा राजन की गिरफ्तारी के पीछे बड़ा राज

सूत्रों ने कहा कि इंडोनेशिया के साथ प्रत्यर्पण संधि नहीं होने की स्थिति में भी वहां गिरफ्तार किए गए अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को वापस लाने के लिए अन्य कई तरीके हैं। विदेश मंत्रालय में सचिव (पूर्व) अनिल वाधवा ने यहां संवाददाताओं से कहा कि हमें किसी को दूसरे देश में प्रत्यर्पित करने के लिए औपचारिक प्रत्यर्पण संधि की जरूरत नहीं है। आज के समय में कई अन्य तरीके और प्रणालियां हैं। पहले ऐसा हो चुका है।

वीडियो में देखें…

भारत और इंडोनशिया ने 2011 में प्रत्यर्पण संधि पर दस्तखत किए थे। लेकिन इंडोनेशिया ने अभी तक करार पर मुहर नहीं लगाई है। वाधवा ने कहा कि प्रत्यर्पण समझौते को प्रभाव में लाने के लिहाज से भारत और इंडोनेशिया को संधि को मंजूरी देते हुए पत्रों का आदान-प्रदान करना होगा और अगले सप्ताह उपराष्ट्रपति एम हामिद अंसारी की इंडोनेशिया यात्रा के दौरान यह हो सकता है। अंसारी एक नवंबर से छह नवंबर तक इंडोनेशिया और ब्रुनेई की यात्रा पर रहेंगे। जब वाधवा से पूछा गया कि क्या मंत्रालय ने राजन की गिरफ्तारी पर कोई रिपोर्ट मांगी है तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर भारत, इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया संपर्क में हैं और इंटरपोल के माध्यम से इससे निपटा जा रहा है।

सीबीआइ प्रवक्ता देवप्रीत सिंह ने कहा कि छोटा राजन एक भगोड़ा है और सीबीआइ आॅस्ट्रेलियाई अधिकारियों के साथ मामले को आगे बढ़ा रही है। भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया के सहयोग से यह गिरफ्तारी संभव हो सकी। हमारे अनुरोध पर तत्काल कार्रवाई करने के लिए हम इंडोनेशिया और आॅस्ट्रेलिया को धन्यवाद देते हैं। कानून के मुताबिक जो भी जरूरी होगा, आगे कार्रवाई की जाएगी। इस बीच मुंबई में महाराष्ट्र के गृह राज्य मंत्री राम शिंदे ने कहा कि राज्य सरकार केंद्र से आग्रह करेगी कि वह राजन को भारत लाने के बाद उसे मुंबई लाने की इजाजत दे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App