यूं ही 14000 करोड़ लेकर नहीं भाग पाया नीरव मोदी, रिश्तेदारों की इस ‘फौज’ ने की मदद

हीरा कारोबारी नीरव मोदी को भारत से भागने में उसके रिश्तेदारों और करीबी लोगों ने बड़ी मदद की। यूएस दिवालिया कोर्ट में दाखिल एक एग्जाइमनर रिपोर्ट में उन लोगों के नाम सामने आए हैं जिन्होंने नीरव को भारत से भागने में मदद की।

Nirav Modi, Fugitive businessman, nirav modi wife, nirav modi news, nirav modi jewels, nirav modi statement, relative, nirav team,नीरव मोदी (फाइल फोटो)

हीरा कारोबारी नीरव मोदी भारत से पंजाब नेशनल बैंक से 14000 करोड़ का लोन लेकर यूं ही नहीं भाग गया। नीरव को भारत से भागने में किसी एक या दो लोगों ने नहीं बल्कि रिश्तेदारों की इस पूरी ‘फौज’ ने मदद की।

इन लोगों ने नीरव के भारत छोड़ने से जुड़ी सारी बातों को बिल्कुल गुप्त रखा। नीरव ने भारत में 2200 से अधिक लोगों को नौकरी दे रखी थी। यह गौर करने वाली बात है कि क्यों किसी ने उसके भागने से पहले कोई आवाज उठाई। यूएस दिवालिया कोर्ट में दाखिल एक एग्जाइमनर रिपोर्ट के अनुसार इस काम के पीछे एक हाई ऑर्गनाइज्ड कोर मैनेजमेंट टीम शामिल थी।

बिजनेस स्टैंडर्ड की खबर के अनुसार 48 वर्षीय नीरव के भारत से भागने में अधिकतर गुजराती, इनमें से भी अधिकतर पुरुषों, जो या तो उसके सगे संबंधी या था उसके बेहद करीबी थे, ने अहम भूमिका अदा की। परिवार के लोगों में एक नाम नीरव के सौतेले भाई निश्चल मोदी का है। यह नीरव मोदी का हीरा कारोबार देखता था। इसके खिलाफ भी लुकआउट नोटिस है। दूसरा नाम निहाल मोदी का है।

यह नीरव का ही भाई है जो फायरस्टार में कंसल्टेंट था। निहाल, इथाका ट्रस्ट से भी जुड़ा था। यहीं वह कंपनी है जिससे भगौड़े नीरव के रियल स्टेट खरीदने से जुड़े फंड की पूछताछ की जा रही है।

मेहुल चोकसी, नीरव का मामा और उसका मेंटर, गीतांजलि ग्रुप का मालिक। यह फिलहाल एंटीगुआ में छिपा है। नीरव मोदी की बहन पूर्वी मोदी मेहता, जो उसका हांगकांग का बिजनेस देखती थी। यह नीरव को जरूरत पड़ने पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पैसे भेजने में मदद करती थी।

नीरव मोदी की पत्नी अमी मोदी, माना जा रहा है कि यह अभी अमेरिका में है। पूर्वी की तरह यह भी अपने खाते से नीरव को पैसे भेजती करती थी। अमी के खिलाफ भी लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। ईडी ने हाल ही में इसके खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है।

चोकसी की बेटी प्रियंका ने एंटवर्प के रहने वाले डायमंड मर्चेंट आकाश मेहता से 2011 में शादी की थी। उस समय प्रियंका ए.जैफे कंपनी चलाती थी। इस कंपनी में नीरव ने काफी निवेश किया था। इस कंपनी ने भी एलओयू के जरिये पैसे लिए।

फायरस्टार डायमंड्स के पूर्व सीईओ और फायरस्टार इंडिया के मिहिर भंसाली, नीरव मोदी का कजन है। यह शैडो कंपनी चलाने में नीर की मदद करता था। यह ऐसी फर्जी कंपनियां थी जिनका प्रयोग नीरव पैसों को इधर से उधर करने में करता था।

यह नीरव का ‘नंबर 2’ आदमी था। भारतीय एजेंसियों का आरोप है कि नीरव के पूरे ग्रुप पर इसका मजबूत दबदबा था। साल 2017 में भंसाली ने ही कथित रूप से नीरव के विश्वासपात्र और फायरस्टार के कर्मचारी श्याम वाधवा को हांगकांग के डायरेक्टर को बदलने का निर्देश दिया था। उसने न्यूयॉर्क में एफडीआई के लिए काम करने वाले हीरा कारोबारी बंकिम मेहता को नियुक्त करने को कहा था।

इनके अतिरिक्त ए.जैफे के सीईओ सुमय भंसाली, सीएफओ विपुल जैन, फायरस्टार अमेरिका का सीएफओ अजय गांधी, नीरव का बिजनेस पार्टनर हेमंत भट्ट व एसपी परोकरन भी शामिल थे।

Next Stories
1 Lok Sabha Election 2019: सुशील कुमार शिंदे बोले- नौकरी, किसानों के बजाय ‘हिंदू आतंकवाद’ की बात करते हैं नरेंद्र मोदी
2 ISRO ने लगाई कामयाबी की एक और छलांग, दुश्मनों पर नजर रखने वाले EMISET समेत 29 उपग्रह लॉन्च
3 युवती के साथ होटल में घुसते पकड़े गए थे मेजर गोगोई, पूरी हुई कोर्ट मार्शल की प्रक्रिया, घट सकता है ओहदा
आज का राशिफल
X