ताज़ा खबर
 

तो क्‍या अगले महीने राज्‍यसभा सांसद भी नहीं रह पाएंगे शरद यादव?

सूत्रों के मुताबिक शरद यादव को अयोग्य घोषित करवाने के लिए दिल्ली से लेकर पटना तक जेडीयू और बीजेपी की एक टीम कानूनी पहलुओं पर विचार कर रही है।
राज्यसभा में बोलते जदयू के शरद यादव। (PTI Photo / TV GRAB)

जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता शरद यादव क्या अगले महीने संसद के उच्च सदन राज्यसभा के भी सदस्य नहीं रह जाएंगे? ये सवाल आजकल बिहार से लेकर दिल्ली के राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना है। रेडिफ डॉट कॉम की खबर के मुताबिक शरद यादव राज्यसभा से अयोग्य करार दिये जा सकते हैं। इस बावत राज्यसभा के चेयरमैन एम वैंकेया नायडू फैसला ले सकते हैं, बशर्ते इसे जुड़ी शिकायत वैंकेया नायडू को की जाए। सूत्रों के मुताबिक शरद यादव को अयोग्य घोषित करवाने के लिए दिल्ली से लेकर पटना तक जेडीयू और बीजेपी की एक टीम कानूनी पहलुओं पर विचार कर रही है। लेकिन किन कानूनी प्रावधानों के तहत शरद यादव अयोग्य घोषित किये जा सकते हैं, इसका कानूनी आधार क्या होगा ये अभी तक तय नहीं है। इसके अलावा अगर जेडीयू शरद यादव के खिलाफ ऐसी कोई कार्रवाई करती है तो जनता को इस बारे में जेडीयू क्या सफाई देगी, जेडीयू को इस पर भी विचार करना होगा। इस बावत अंतिम फैसला बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा लिया जाएगा। खबर ये भी है कि सीएम नीतीश कुमार इसी महीने के अंत तक इस मसले पर कार्रवाई चाहते हैं।

बीजेपी से दोस्ती कर बिहार में सरकार बनाने के लिए शरद यादव जेडीयू अध्यक्ष और बिहार सीएम नीतीश कमार से खुले तौर पर बगावत कर चुके हैं। जेडीयू ने शरद यादव के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें राज्यसभा में जेडीयू के नेता पद से हटा दिया है। नीतीश कुमार ने शरद यादव के स्थान पर अपने विश्वासपात्र आरसीपी सिंह को राज्यसभा में पार्टी का नेता बनाया है। शरद यादव के अलावा बगावत की आवाज बुलंद करने वाले अली अनवर को भी जेडीयू ने पार्टी से बर्खास्त कर दिया है। इस बीच शरद यादव भी अपने विश्वासपात्रों के साथ आगे की रणनीति बना रहे हैं। कभी जेडीयू के संस्थापक रहे शरद यादव बिहार यात्रा के बाद कल (17 अगस्त) को दिल्ली में ‘साझा विरासत बचाओ’ नाम से एक सम्मेलन कर रहे हैं।

इस सम्मेलन में शरद यादव अपनी रणनीति और आगे के एक्शन प्लान का खुलासा कर सकते हैं। शरद यादव की इस मीटिंग को यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद और आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव का समर्थन मिल रहा है। इधर 19 अगस्त को पटना में जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक है। इस बैठक में जेडीयू पार्टी के बागियों को लेकर अपनी नीति स्पष्ट कर सकती है। माना जा रहा है कि नीतीश कुमार 19 अगस्त को ही जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल होने की घोषणा कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.