त्रिपुरा में भाजपा और सीपीएम के बीच हिंसक टकराव, जला दिए गए वाहन, अब एक दूसरे पर कीचड़ उछाल रहीं दोनों पार्टियां

त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर शहर में उपद्रव उस वक्त हुआ जब माकपा की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया ने जुलूस निकाला और इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने सत्तारुढ़ भाजपा के कार्यकर्ता पर कथित तौर पर हमला किया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए।

Tripura BJP-CPM clash, Tripura BJP-CPM fight, Tripura BJP, Tripura CPM, Tripura news, north east news, india news,
त्रिपुरा में भाजपा और माकपा कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प। (Express Photo: Abhisek Saha)

त्रिपुरा के सिपाहीजाला जिले के दो गांवों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) और मुख्य विपक्षी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के समर्थकों के बीच झड़प के दो दिन बाद बुधवार को राजधानी अगरतला सहित चार और स्थानों पर ताजा हिंसा और आगजनी की सूचना मिली है।

त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर शहर में उपद्रव उस वक्त हुआ जब माकपा की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया ने जुलूस निकाला और इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने सत्तारुढ़ भाजपा के कार्यकर्ता पर कथित तौर पर हमला किया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए।

अधिकारियों के मुताबिक लगभग 10 लोग घायल हो गए हैं। दो सीपीएम कार्यालय जल गए और कम से कम छह वाहनों को आग लगा दी गई। पार्टी नेताओं ने कहा कि सीपीएम के राज्य मुख्यालय को भी निशाना बनाया गया।

ताजा हिंसा गोमती जिले के उदयपुर, सिपाहीजला जिले के विशालगढ़ और पश्चिम त्रिपुरा जिले के हापनिया और अगरतला के मेलरमठ इलाके में हुई। हिंसा के दौरान अगरतला में सीपीएम का राज्य मुख्यालय, सदर संगठनात्मक जिला मुख्यालय और एक स्थानीय पार्टी कार्यालय हमले की चपेट में आ गया।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “पूर्ण मूल्यांकन किया जाना बाकी है। अगरतला में तीन कारों और कुछ मोटरसाइकिलों सहित लगभग छह वाहन जलाए गए हैं। अधिकारी ने बताया, “बिशालगढ़ और हापनिया में राजनीतिक पार्टी के कार्यालय जलाए गए। उदयपुर में एक पार्टी कार्यालय पर हमला हुआ। वहां एक युवक की पहचान माफिज मियां के रूप में हुई है। घटना में एक मामला दर्ज किया गया है और दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।”

झड़प के दौरान, स्थानीय अखबार प्रतिवादी कलम और सीपीएम का मुखपत्र डेली देशेर कथा के कार्यालय और स्थानीय टीवी चैनल पीबी 24 को भी निशाना बनाया गया। माकपा ने आरोप लगाया कि वामपंथी युवा समर्थक उदयपुर में सड़क जाम कर रहे थे जब भाजपा समर्थकों ने उन पर हमला किया। पार्टी ने आरोप लगाया कि विशालगढ़ में भाजपा कार्यकर्ताओं के एक समूह ने खाली सीपीएम जिला मुख्यालय को निशाना बनाया और उसमें तोड़फोड़ कर आग लगा दी।

एक संवाददाता सम्मेलन में, त्रिपुरा वाम मोर्चा के संयोजक बिजन धर ने कहा, “हमने विशालगढ़ में पार्टी की बैठक की थी। वापस जाते समय, हमें पता चला कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने बुलडोजर से हमारे जिला पार्टी कार्यालय के गेट को तोड़ दिया है, दरवाजे उखाड़ दिए हैं और आग लगा दी। हमारी पार्टी के नेता पार्थ प्रतिम मजूमदार के घर में भी तोड़फोड़ की गई।”

वहीं झड़प के तुरंत बाद कृषि मंत्री प्रणजीत सिंह रॉय मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। बाद में मीडिया से बात करते हुए, मंत्री ने कहा कि माकपा की युवा शाखा ने पुलिस से पूर्व अनुमति लिए बिना एक रैली निकाली थी। उन्होंने कहा कि सरकार हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी।

इस बीच, केंद्रीय राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक ने सोमवार की हिंसा के विरोध में सोनामुरा उपमंडल के धनपुर में एक विरोध मार्च का नेतृत्व किया। बाद में शाम को, भाजपा सदर जिला इकाई ने राजधानी अगरतला में एक विरोध रैली भी की।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।