ताज़ा खबर
 

फ्रांस अटैकः शायर मुनव्वर राणा के खिलाफ UP में केस, इंटरव्यू के दौरान हिंसा का किया था समर्थन

मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने कार्टून विवाद को लेकर फ्रांस में हुई हत्याओं को सही करार दिया था। जिसके लिए उनके खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज किया गया है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: November 2, 2020 2:39 PM
munawwar rana, lucknow, Fir, prohpet cartoon, franceफ्रांस में हुई हत्याओं को सही करार देने के लिए शायर मुनव्वर राणा के खिलाफ एफआईआर दर्ज। (file)

फ्रांस हमले को लेकर मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने एक विवादित बयान दिया था। जिसके चलते उनके खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज़ किया गया है। राणा ने अपने बयान में फ्रांस में हुई हत्याओं को सही करार दिया था। उत्तर प्रदेश पुलिस ने धाधार्मिक आधार पर समूहों में दुश्‍मनी को बढ़ावा देने के आरोप में गंभीर धाराओं में मुनव्वर राणा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

पुलिस के अनुसार मुनव्‍वर राना ने फ्रांस में एक पत्रिका में प्रकाशित कार्टून और एक व्यक्ति की हत्‍या के संदर्भ में एक न्‍यूज चैनल को साक्षात्‍कार दिया था जिसमें उनका बयान कथित रूप से विभिन्‍न समुदायों में वैमनस्‍य फैलाने और सामाजिक सौहार्द पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाला है। मुनव्वर राणा ने फ्रांस में पैग़म्बर मोहम्मद का कार्टून बनाने वाले को लेकर कहा था कि अगर कोई उनके मां-बाप या देवी-देवता का ऐसा बेहूदा कार्टून बना दे तो उसे मैं मार सकता हूं। राणा ने अपने बयान में कहा था कि जिस व्यक्ति ने यह कार्टून बनाया है उसने गलत किया है।

पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज़ करते हुए कहा कि ये बयान समुदायों को बीच वैमनस्यता फैलाने वाला, सामाजिक सौहार्द्र पर विपरित प्रभाव डालने वाला है और इससे लोक शांति भंग होने की आशंका है।

उनके खिलाफ धारा 153-ए (धर्म और भाषा के आधार लोगों में नफरत फैलाने की कोशिश), 295-ए (किसी वर्ग की धार्मिक भावना का अपमान करने के इरादे से किया गया दुर्भावनापूर्ण कृत्‍य), 505(1(बी) (जनता के बीच भय पैदा करने के इरादे से शरारत करना और अपराध के लिए प्रेरित करना), 505 (2) (नफरत पैदा करने वाला बयान देना) तथा सूचना प्रोद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम 2008 की धारा 67 और 66 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

राना के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए पुलिस उपनिरीक्षक ने कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे राना के बयान से लोक शांति भंग होने की पूर्ण आशंका है। वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने साक्षात्‍कार का संज्ञान लेते हुए प्राथमिकी दर्ज की है और मामले की जांच की जा रही है।

मुनव्वर राणा के इस बयान को लेकर सोशल मीडिया पर भी आलोचना हो रही है। कवि कुमार विश्वास ने जावेद अख्तर की चंद पंक्तियां लिखकर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने लिखा, “नर्म अल्फ़ाज़ भली बातें मोहज़्ज़ब लहजे, पहली बारिश ही में ये रंग उतर जाते हैं..!”

हालांकि इसके बाद सफाई पेश करते हुए राणा ने कहा था कि फ्रांस में जो कुछ भी हो रहा है, सब गलत है। इस्लामी मजहब से छेड़छाड़ करने वाला कार्टून बनाना भी गलत था और उस कार्टूनिस्ट या शिक्षक को मारने वाली घटना भी गलत है। फ्रांस के कानून के मुताबिक जो भी सजा हो वह उन्हें मिले।

मशहूर शायर ने कहा था कि फ्रांस के लोगों को भी सोचना चाहिए कि अगर कुछ गलत हुआ है तो उसके बदले अन्य समुदाय के लोग गलत न करें। देश में मजहबी भावनाओं की कद्र होनी चाहिए। जो देश ऐसा नहीं करता उस देश में कभी अमन नहीं हो सकता।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 MLAs की खरीद पर अगर BJP भरती GST तो भारत सोने की चिड़िया होता- कुणाल कामरा का ट्वीट, दिग्विजय स‍िंंह ने कहा- सही बात
2 UP: मथुरा में 2 मुस्लिम युवकों ने मंदिर में नमाज़ पढ़ पोस्ट की तस्वीरें, मुख्य आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार
3 लद्दाख: अब भी जारी है चीन का निर्माण, PLA सैनिकों के लिए बना रहा कैम्प
यह पढ़ा क्या?
X