ताज़ा खबर
 

यूपी: मस्जिद में रखा था विस्फोटक पदार्थ, हुआ धमाका, मौलाना सहित चार गिरफ्तार, तीन फरार

मस्जिद में हुए धमाके को पहले इन्वर्टर में हुआ ब्लास्ट बताया जा रहा था। हालांकि, कुशीनगर के एसपी विनोद कुमार ने बताया कि धमाके की वजह मस्जिद के कमरे में रखा कोई विस्फोटक पदार्थ था।

Author लखनऊ | Updated: November 14, 2019 8:32 AM
गिरफ्तार किए गए मौलाना की पहचान 28 वर्षीय अजीमुद्दीन के रूप में हुई है। (प्रतीकात्मक फोटो)

यूपी के कुशीनगर जिले में में दो दिन पहले मस्जिद में हुए विस्फोट में एक मौलाना समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बुधवार को 28 वर्षीय मौलाना अजीमुद्दीन समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए अन्य तीन लोगों की पहचान इजहार, आशिक और जावेद के रूप में हुई।

पुलिस का कहना है कि इस मामले में तीन अन्य लोग कुतुबद्दीन अंसारी, अशफाक और मुन्ना अभी फरार चल रहे हैं। ये तीनों एक ही गांव के रहने वाले हैं। मामलू हो कि कुशीनगर जिले के बैरागीपट्टी गांव में दो दिन पहले मस्जिद में एक धमाका हुआ था। मस्जिद में हुए धमाके को पहले इन्वर्टर में हुआ ब्लास्ट बताया जा रहा था।

मस्जिद में हुए धमाके को पहले इन्वर्टर में हुआ ब्लास्ट बताया जा रहा था। हालांकि, कुशीनगर के एसपी विनोद कुमार ने बताया कि धमाके की वजह मस्जिद के कमरे में रखा कोई विस्फोटक पदार्थ था। गर्मी के कारण इसमें विस्फोट हो गया। पूछताछ के दौरान अजीमुद्दीन ने पुलिस को बताया कि करीब चार महीने पहले एक स्थानीय निवासी कुतुबद्दीन अंसारी उसके पास आया था।

अंसारी अपने साथ एक प्लास्टिक का बैग भी लेकर आया था। पूछने पर उसने बताया कि इसमें कुछ पाउडर है। अंसारी ने मौलाना से उस बैग को सुरक्षित रखने को कहा। उसने कहा था कि यह प्लास्टिक बैग किसी अन्य चीज के संपर्क में ना आने पाए। एसपी ने कहा कि पूछताछ के दौरान अंसारी ने अजीमुद्दीन से कहा था कि इस प्लास्टिक बैग का प्रयोग सही मौका आने पर किया जाएगा।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि अंसारी की गिरफ्तारी के बाद इस पाउडर को रखे जाने के इरादे का पता चल पाएगा। यूपी पुलिस के साथ ही एटीएस भी इस मामले की जांच में जुट गई है। पुलिस में इस मामले में संबंधित धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 BHU की डिप्टी चीफ प्रॉक्टर ने कैंपस से हटवा दिए RSS के झंडे, FIR दर्ज, छोड़ना पड़ गया पद
2 हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति प्रक्रिया भी हो सार्वजनिक, CJI का दफ्तर RTI के दायरे में आने के बाद बोले जस्टिस चंद्रचूड़
3 केंद्र सरकार को बड़ा झटका, पांच जजों की संविधान पीठ ने वित्त कानून 2017 में संशोधन को किया खारिज, ट्रिब्यूनल्स में बहाली के लिए बनाने होंगे नए नियम
जस्‍ट नाउ
X