ताज़ा खबर
 

‘कोरोना का भी खतना कर डाला’, पूर्व SC जज बोले तो बिदके ट्रोल्स- ‘सर, आप जज कैसे बन गए?’

तीन अप्रैल को किए ट्वीट में उन्होंने लिखा था, “कोरोना का भी खतना कर डाला। हरि ऊं।” ट्विटर पर ट्रोल्स ने इसी बात को लेकर उन्हें निशाने पर ले लिया। लोग बिदकते हुए उनसे पूछने लगे, “सर, आखिर आप जज कैसे बन गए?”

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू (Express photo by Jaipal Singh)

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू सोशल मीडिया पर अपनी एक टिप्पणी को लेकर ट्रोल कर दिए गए हैं। बिना किसी का नाम लिए कोरोना संकट के बीच उन्होंने कहा कि कोरोना का भी खतना कर दिया गया है।

तीन अप्रैल को किए ट्वीट में उन्होंने लिखा था, “कोरोना का भी खतना कर डाला। हरि ऊं।” ट्विटर पर ट्रोल्स ने इसी बात को लेकर उन्हें निशाने पर ले लिया। @Anmol_India नाम के यूजर ने बिदकते हुए उनसे पूछा, “सर, आखिर आप जज कैसे बन गए?” इसी पर जवाब देते हुए और जस्टिस काटजू के मजे लेते हुए @rahi9891 ने कहा, “जैसे आसाराम बाबा बन गए।”

@SiddeeqKhan15 ने लिखा- नोएडा पुलिस कमिश्नर का कहना है कि हमने 70 जमात वालों की जांच की। किसी में भी बिमारी के लक्षण नजर नहीं आएं। सुनते ही रिपोर्टर का मुंह लटक गया।

Coronavirus, COVID-19, Markandey Katju, Justice Markandey Katju, SC, Khatana, कोरोनावायरस, कोरोना, मार्कंडेय काटजू, जस्टिस मार्कंडेय काटजू, ट्रोल्स, सोशल मीडिया, ट्विटर, ट्रेडिंग न्यूज, राष्ट्रीय खबरें

@madinabarkatkha ने काटजू पर कटाक्ष करते हुए लिखा कि पूरी दुनिया कोरोना वायरस का इलाज खोज रही है और कुछ लोग कोरोना में मुसलमान ढूंढ रहे हैं। शर्म करिए।

@NadeemIrfan18 ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज को जवाब देते हुए लिखा- जहांपनाह, क्या आप यह कहना चाहते हैं कि कोरोना मुस्लिम वायरस है? भक्त अब पक्का इसका संबंध आईएसआईएस (कुख्यात आतंकी संगठन) से जोड़ेंगे, क्योंकि इसमें दोनों ही बातें हैं- आतंकित करना और जान ले लेना।

इसी बीच, @ekram_urrab नाम के हैंडल से पूछा गया, “मतलब कोरोना लड़का है?” वहीं, @ArsadRajaka ने लिखकर जस्टिस काटजू से पूछा- खाना पहले खाना है या बाद में?

काटजू का यह बयान, ऐसे वक्त पर आया है जब देश में कोरोना के कुल केसों में 30 फीसदी मामले तबलीगी जमात से जुड़े (स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, चार अप्रैल 2020 की शाम तक) थे। ऐसे में कोरोना को मजहबी रंग देने की भी कुछ कोशिशें हुईं।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ऐसी ही कोशिशों पर शनिवार को कहा था कि कोरोना वायरस के अलावा ‘‘बांटने वाला’’ एक वायरस भी है। ठाकरे और तमिलनाडु के उनके समकक्ष के पलानीस्वामी ने देश में वायरस के फैलने को मजहबी रंग नहीं देने की अपील की है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 9 मिनट के बत्ती बंदी में ठप नहीं होंगे पॉवर ग्रिड, केंद्र ने बताया डिटेल प्लान, कहा- इन अप्लायंसेज को बंद न करें लोग
2 ‘तब तो आप जिंदगी भर के लिए लॉकडाउन हो जाओगे’, राजदीप सरदेसाई ने की उद्धव ठाकरे की तारीफ तो उबल पड़े ट्रोल्स
3 वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से फास्ट डिशीजन, व्हाटसएप से मंजूरी, जानें- अरजेंसी में कैसे बड़े अफसर निबटा रहे काम, अफसरशाही में कॉमन हुआ VC और VPN